अमर भारती : कहा जाता है कि सतत विकास के लक्ष्य साक्षरता इंस्टिट्यूशन डिग्रियां लोगों के हिसाब से आने लक्ष्मण अभी भी थोड़े कम है। परंतु राज्य सरकार ने जो आज प्रस्तुतीकरण दिया है। उससे लगता है कि वह जल्द ही अपने लक्ष्य को प्राप्त कर लेंगे आयोग से पूरी तरह संतुष्ट है नेशनल ग्रोथ रेट है उसमें धीरे-धीरे विकास होगा। ऊर्जा के क्षेत्र में ट्रांसमिशन लॉस 11000 सेल बढ़कर 18000 पहुंच गया है ऊर्जा के इस क्षेत्र में थोड़ी समस्या है। अगले 2 वर्ष के लिए जो लक्ष्य है वह जल्द ही पूरे हो जाएंगे ऐसा हम भी मानते हैं। ऑस्ट्रेलियन डॉलर इकोनामी बनाना उस लक्ष्य की पूर्ति के लिए आवश्यक है कि उत्तर प्रदेश में भी परिवर्तन हो उत्तर प्रदेश में कम से कम 1 ट्रिलियन डॉलर एकनामी हो इसमें वृद्धि हो तभी इसमें एक्चुली में कॉल मी पहुंचना मुमकिन होगा जब तक उत्तर प्रदेश उस लक्ष्य को नहीं प्राप्त करता तब तक भारत पांच ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी प्राप्त नहीं कर पाएगा।

सतत विकास के लक्ष्य में जो तय किए गए हैं वह अभी उत्तर प्रदेश में सराहनीय नहीं है लेकिन जो मापदंड हैं उस तक पहुंचने के लिए उत्तर प्रदेश की जो प्रगति है। वह सराहनीय है हमने कुछ विचार प्रकट किए हैं जो हमारे सदस्य हैं। उन्होंने जो सहमति दी है उस पर अगर सही तरीके से कार्य होगा तो जल्द ही उत्तर प्रदेश बढ़िया प्रगति करेगा। मेडिकल नर्सेज में जो पैरामेडिकल व्यवस्था है उस पर आयोग विचार कर रहा है स्वास्थ्य शिक्षा आंधी पर आयोग विचार कर रहा है। वहीं शिक्षा के क्षेत्र में और कैसे प्रगति हो इसके लिए प्री प्राइमरी एजुकेशन में कैसे पाठ्यक्रम से जोड़ा जाए इस पर कोई व्यक्ति है राज्य सरकार से वहन करें आयोग की सहायता से उसे लागू किया जाएगा इसके साथ ही आंगनवाड़ी का अभी जो प्रयास है उसे प्री प्राइमरी के रूप में लागू किया जाए यह नई चुनौतियां हैं।

उत्तर प्रदेश संभावनाओं से संपूर्ण रूप से अलंकृत है संभावनाएं ज्यादा हैं तुलनात्मक चुनौतियों के वर्तमान संभावनाओं को आगे कैसे बदले देखते हुए सहानुभूति पूर्वक जो मेमोरेंडम उत्तर प्रदेश सरकार ने दिया है और जो आज विवाद विचार-विमर्श के बीच में आया है। मुख्यमंत्री द्वारा एवं अन्य सहयोगियों मंत्रियों द्वारा सुविचार विचार दिए हैं उससे आयोग बहुत संतुष्ट है और संतोषजनक रूप से उनकी सराहना करता है। अशोक मेहता सचिव वित्त आयोग अजय नारायण झा पूर्व वित्त सचिव भारत सरकार सदस्य हैं। वर्तमान समय में रमेश चंद्र जी जो सदस्य हैं। वित्त आयोग के अनूप सिंह सदस्य भी रहे मौजूद वित्त आयोग के सदस्य रमेश चंद्र ने बताया कि 15 दिन में कृषि की व्यवस्था सुधार करने के लिए रोडमैप तैयार करने का निर्देश दिया गया है।