अमर भारती : बाँदा  जिले के बबेरू कोतवाली क्षेत्र के एक गांव में अन्ना पशुओं से परेशान किसानों ने सारे अन्ना पशुओं को एक प्राथमिक विद्यालय के अंदर बंद कर दिया । और ताला लगाकर वहीं बैठ गए , जब सुबह अध्यापक पढ़ाने के लिए आए तो किसान कहने लगे, की विद्यालय नहीं खुलेगा, सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने ने सभी अन्ना पशुओं को बाहर निकलवाया ।

आपको बता दें कि पूरा मामला बबेरू कोतवाली क्षेत्र के ग्राम तराया का है। जहां पर किसान अन्य पशुओं से परेशान हैं ।जिसको लेकर आज गांव के सभी किसान सभी अन्ना पशुओं को प्राथमिक विद्यालय महराजदीन के डेरा में बाउंड्री के अंदर बंद करके गेट में ताला लगा दिया ।  जब सुबह विद्यालय पर अध्यापक वा बच्चे पहुंचे तब विद्यालय के गेट का ताला किसानों ने नहीं खोलने दिया । तभी अध्यापक अपने खंड शिक्षा अधिकारी को फोन से अवगत कराया । और डायल हंड्रेड को भी सूचना दिया । मौके पर पहुंचे डायल हंड्रेड की पुलिस ने समझाने का प्रयास किया । लेकिन किसान नहीं माने,उसी समय बबेरू कोतवाली पुलिस को भी फोन लगाया गया ।सूचना मिलते ही लगभग 12:00 बजे बबेरु कोतवाली की पुलिस पहुंची ।और समझा-बुझाकर ताला को खुलवाया ।और सभी अन्ना पशुओं को विद्यालय के बाहर निकलवाया । उसके बाद सफाई कर्मियों को बुलाकर विद्यालय की सफाई करवाई गई । उसके बाद विद्यालय के अंदर सभी बच्चे गए और पढ़ाई सुचारू रूप से चालू करवाई गई ।

किसानों ने बताया कि अन्ना पशुओं से गांव के सारे किसान परेशान हैं । लगभग सैकड़ों बीघे की फसल धान अरहर सब नष्ट कर दिया हैं । पशु बाड़ा भी बनाया गया है , लेकिन ग्राम प्रधान व सचिव के सह से रात में अन्ना पशुओं  को निकाल दिया जाता है । जिससे यहां के किसान पूरी तरह से परेशान हैं । जिसमें आज सभी किसान इन अन्य पशुओं को विद्यालय पर बंद कर दिया गया था ।  हम चाहते थे कि कोई सक्षम अधिकारी आए और हमारी बात सुने, लेकिन बबेरु कोतवाली की पुलिस आई और जबरन हमको हटवा कर सभी जानवरों को विद्यालय से हटवा दिया गया । आज यह जानवर फिर छुट्टा हो जाएंगे फिर हमारी फसलें नष्ट करेंगे ।

उधर ग्राम प्रधान प्रीतम कोटार्य ने बताया की यह सब अन्ना पशु बाड़े में हमने बंद करवाया था ।लेकिन कुछ लोगों की वजह से यह रात में स्वयं छुड़वा कर यहां बंद कर दिया था ।क्योंकि यह सब जो करवा रहे हैं  हमारे विपक्षी करवा रहे हैं।उधर विद्यालय के दिनेश कुमार तिवारी अध्यापक ने बताया कि जब मैं सुबह आया तब विद्यालय का ताला बंद था जानवर अंदर थे । मैंने अपने खंड शिक्षा अधिकारी को सूचना दिया । उसके बाद मौके पर पुलिस आई और सभी जानवरों को बाहर निकलवाया । अब सफाई करवाकर विद्यालय पर आज कक्षा 3 ,4 ,5 क्लास के बच्चों को संस्कृत का पेपर है तो वहीं अब करवाएंगे ।