अमर भारती: भारतीय सैनिकों द्वारा पीओके पर कार्रवाई होने के बाद पाक एक बार फिर आतंकी साजिश में शामिल होने से बचने के लिए नया पैंतरा चलने लगा है। पाक सरकार, मीडिया और सेना अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी छवि साफ-सुथरी दिखाने के लिए पीओके पर हुई कार्रवाई को नकारने में लगे हुए हैं।

पीओके पर भारतीय सैन्य कार्रवाई के बाद पाक सेना प्रवक्ता आसिफ गफूर ट्वीट कर दावा कर रहे हैं कि भारत जिन आतंकी कैंपो को नेस्तनाबूद करने की बात कर रहा है वह सरासर गलत है। क्योंकि वहां ऐसे कोई आतंकी कैम्प नहीं थे। यहां तक कि उन्होंने विदेश मीडिया को जांच करने का न्योता भी दे दिया है।

जबकि भारतीय सेना प्रमुख विपिन रावत के मुताबिक पाक सेना के करीब 5-6 जवान समेत कई आतंकी मारे गए। हालांकि पाक मीडिया कई भारतीय जवानों के मारे जाने की बात कर रहा है। वर्ष 2014 में भारत में हुए नक्सल हमले की एक तस्वीर को पाक मीडिया रविवार की तस्वीर बताकर पाक की तरफ से की गई कार्रवाई में कई भारतीय सैनिकों के मारे जाने का दावा कर रही है। जिसे लोग सोशल मीडिया पर ही खारिज कर चुके हैं।

रिपोर्ट- सुमित कुमार सिंह