अमर भारती : गाजियाबाद के लोनी कोतवाली पुलिस ने शनिवार को फर्जी आईडी बनाकर बैंकों से धोखाधड़ी कर गाड़ियों का लोन व पर्सनल लोन कराने वाले गिरोह का पर्दाफाश कर चार शातिर अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार अभियुक्तों से बैंक से फर्जी कागजात पर लोन करा कर ली गई दो कार एवं एक स्कूटी, फर्जी आधार कार्ड एवं पैन कार्ड बरामद किए गए है। गिरफ्तार अभियुक्तों के नाम अंकित पुत्र छत्रपाल मुरादाबाद, अजीत पुत्र गोपाल मसूरी गाजियाबाद, राजकुमार पुत्र रघुवंश अमरोहा, रजनीश पांडे पुत्र रामानुज पांडे साहिबाबाद गाजियाबाद है।

गिरफ्तार अजीत ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से एमबीए एवं रजनीश ने बी फार्मा किया हुआ है। शॉर्टकट से पैसे कमाने के चक्कर में यह लोग मिलकर फर्जीवाड़ा करते हैं। अजीत पर खोड़ा एवं कविनगर थाने में भी मुकदमे दर्ज हैं। इन्होंने गाजियाबाद के नवयुग मार्केट में साईं कंसल्टेंसी के नाम से ऑफिस बना रखा है। वहीं से यह लोग मिलकर लोगों को फसाते और उन्हें गाड़ियां दिलाते थे।

 

प्रेस वार्ता में क्षेत्राधिकारी लोनी राजकुमार पांडे ने बताया कि लोनी थाना प्रभारी कोतवाली पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर बंथला की तरफ से लोनी आ रही एक कार को रोककर तलाशी ली। तलाशी के दौरान कार से पांच आधार कार्ड एवं पैन कार्ड बरामद हुए पुलिस टीम ने जब इनकी जांच की तो देखा सभी पर नाम तो अलग अलग थे लेकिन फोटो एक ही व्यक्ति का लगा हुआ था।

पुलिस ने कार सवार चार युवकों को हिरासत में ले लिया और इन से सख्ती से पूछताछ की गई पूछताछ में उन्होंने बताया कि यह लोग फर्जी नाम एवं पते के कागजात तैयार कर बैंकों से पर्सनल लोन एवं वाहन लोन कराते हैं लोन होने के बाद कार को कीमत से आधे दाम में बेच कर पैसे कमाते हैं फर्जी कागजात होने के कारण बैंक इन से वाहन की कीमत नहीं वसूल पाते है गिरफ्तार अभियुक्तों ने अब तक 12 से 13 वाहन लोन करा कर बेचने की बात कबूल की है। लोनी थाना प्रभारी बिजेंद्र सिंह भड़ाना ने बताया कि इनके द्वारा अब तक फर्जी नामों से लोन कराकर बेचे गए वाहनों के बारे में जानकारी की जा रही है

रिपोर्ट-यशपाल कसाना