अमर भारती : आज भारतीय वायुसेना का 87वां दिवस मनाया गया, इसके स्थापना दिवस को पूरे 87 साल की हो चुके हैं। वायुसेना दिवस के इस अवसर पर गाजियाबाद स्थित हिंडन एयरबेस पर विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान वायुसेना के जवान लड़ाकू विमानों के साथ करबत दिखाया।

इस कार्यक्रम में चार स्क्वॉड्रन हिस्सा ले रहे हैं इस कार्यक्रम में 43 अफसर हिस्सा ले रहे हैं, 51 स्क्वॉड्रन यानी अभिनंदन वर्तमान की स्क्वॉड्रन को भी मिला सम्मान, पुलवामा हमले के बाद बालाकोट एयर स्ट्राइक करने वाली नौवीं स्क्वॉड्रन को भी मिला सम्मान, इन्हें युद्ध सेवा मेडल मिला।हिंडन एयरफोर्स स्टेशन पर आयोजित एयर शो में पहली बार लड़ाकू हेलीकॉप्टर अपाचे और हैवी लिफ्ट हेलीकॉप्टर चिनूक अपनी ताकत दिखा रहे हैं। इससे पहले सेना प्रमुख बिपिन रावत, भारतीय वायु सेना प्रमुख आरके सिंह भदौरिया और नौसेनाध्यक्ष करमबीर सिंह ने राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पहुंचकर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की।

इसी बीच वायुसेनाध्यक्ष एयर चीफ मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने वायुसेना दिवस पर कहा, ‘इस (बालाकोट एयरस्ट्राइक) की रणनीतिक प्रासंगिकता आतंकवादियों को दंडित करने के लिए राजनीतिक नेतृत्व का संकल्प है, उन्होंने आगे कहा कि, आतंकवादी हमलों से निपटने के सरकार के तरीके में बदलाव आया है। पड़ोस का वर्तमान सुरक्षा वातावरण चिंता का गंभीर विषय बना हुआ है। पुलवामा हमला रक्षा प्रतिष्ठानों पर होने वाले लगा।

पुरस्कार वितरण के बाद वायुसेना अध्यक्ष कार्यक्रम में मौजूद वायुसेना के जवानों और अधिकारियों व अन्य मेहमानों को संबोधित किया, उन्होने कहा कि हमारी प्रतिबद्धता देश की सुरक्षा है।

जमीन पर करतब दिखाने के बाद अब वायुसेना आसमान में पूरे विश्व को अपना दम दिखा रही है। ग्रुप कैप्टन एस रावत चिनूक एयरक्राफ्ट टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। अपाचे लीथल हेलिकॉप्टर दूसरे नंबर फ्लाईपास्ट देने पहुंचे। तीसरे नंबर विंटेज एयर ने दिखाया दम। डकोटा एयक्राफ्ट ने भी दिखाए करतब। हरक्यूलिस फाइटर जेट ने दिखाया दम। सुखोई-30 ने भी किया जोरदार प्रदर्शन, दिलों की धड़कनें बढ़ाने वाला एवेंजर फॉर्मेशन, एयरक्राफ्ट की तेज आवाज से पूरा सभास्थल गूंज उठा। मिग-21, मिग-29 विमान, मिराज-2000 ,सिंगल सुपर-30 एमकेआई ने दिखाया दम।

रिपोर्ट- यशपाल कसाना