अमर भारती: भारत-पाक नियंत्रण रेखा और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर बड़ी संख्या में आतंकी घुसपैठ की कोशिश में जमा हैं। सुरक्षा एजेंसियों की इस आशय की सूचना के बाद एलओसी और सीमा पर गश्त बढ़ा दी गई है।

सेना और बीएसएफ के जवानों की मुस्तैदी के कारण आतंकियों की बड़ी खेप घुसपैठ में विफल रही है लेकिन करीब दो दर्जन आतंकी घुसपैठ में सफल रहे हैं।

एलओसी के पार मोहरा में आतंकियों के तीन ग्रुपों का मूवमेंट नोट किया गया है। भिंभर गली सेक्टर के पास ही एलओसी के उस पार लंजोट और दादोट में आतंकियों के 3-4 ग्रुप के हरकत में होने की सूचना है।

सुरक्षा एजेंसियों का मानना है कि घुसपैठ में सफल रहे आतंकियों में फिदायीन दस्ते शामिल नहीं हैं लेकिन सभी आधुनिक हथियारों से लैस और प्रशिक्षित हैं। एजेंसियों की इस सूचना के बाद सीमावर्ती इलाकों में तलाशी अभियान तेज किया गया है।

अंतरराष्ट्रीय मंचों पर बेशक पाकिस्तान को कूटनीति में भारत के सामने मुंह की खानी पड़ रही है लेकिन एलओसी और बॉर्डर पर वो अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा। इंटेलीजेंस इनपुट के आधार पर नियंत्रण रेखा और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर भारतीय सुरक्षा एजेंसियां खास चौकसी बरत रही हैं। इनटेल रिपोर्ट्स में नियंत्रण रेखा के उस पार आतंकवादियों के मूवमेंट की बात कही गई है।

सूत्रों ने बताया कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय का ध्यान अपनी ओर करने के लिए जैश और लश्कर के आतंकी ‘ओवर ग्राउंड वर्कर्स (OGW) की मदद से भारत में किसी यहूदी नागरिक को निशाना बनाने की कोशिश कर सकते हैं। बता दें कि यहूदियों का सबसे पवित्र दिन ‘योम किप्पुर’ 9 अक्टूबर को है।

हाई अलर्ट वाले सेक्टरों में माछिल भी शामिल है। उस पार जूरा लॉन्च पैड पर आतंकवादियों की हलचल देखे जाने के बाद केरन सेक्टर में भी खास सतर्कता बरती जा रही है। सूत्रों ने बताया कि जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों के छह ग्रुप चोरीकोट लॉन्च पैड पर ट्रेस किए गए हैं।ये इलाका पुंछ के साथ लगता है।

इसी तरह भिंभर गली सेक्टर के पास एलओसी के उस पार मोहरा में आतंकियों के तीन ग्रुपों का मूवमेंट नोट किया गया है. भिंभर गली सेक्टर के पास ही एलओसी के उस पार लंजोट और दादोट में आतंकियों के 3-4 ग्रुप के हरकत में होने की सूचना है।

माछिल सेक्टर के पास उस पार तेजियां में लश्कर-ए-तैयबा के आतंकियों के 4-5 ग्रुप, कृष्णा घाटी सेक्टर के पास बटाली मोहाली में आंतकियों के दो ग्रुप, केजी सेक्टर के पास नट्टार में आतंकियों के दो ग्रुप घुसपैठ की फिराक में हैं।

रिपोर्ट में बताया गया है कि भारत के बीजी सेक्टर के पास पीओके के सलहुन और मातरियां में जैश के 50 और लश्कर के 30 आतंकवादी भी किसी खुराफात के लिए तैयार हैं।केरन सेक्टर के पास उस पार से लश्कर और अल बदर के 90 आतंकवादी घुसपैठ की कोशिश कर सकते हैं।