अमर भारती: किसी भी महिला को अब मिडिल फिंगर दिखाना भारी पड़ सकता है।ऐसा करने वाले शख्स को न केवल जुर्माना भरना पड़ सकता है बल्कि जेल की हवा भी खानी पड़ सकती है। ऐसे ही एक मामले में दिल्ली की एक कोर्ट के आदेश के बाद एक शख्स को महिला को अजीब मुंह बनाकर मिडिल फिंगर दिखाने का दोषी पाया गय है।

मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट वसुंधरा आजाद ने मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि इस तरह से हावभाव बनाकर किसी महिला को परेशान करना और उसे गलत तरीके से उंगली दिखाना महिलाओं के सम्मान के खिलाफ है। आरोपी महिला का देवर बताया जा रहा है।

महिला ने यह शिकायत 21 मई 2014 में की थी। महिला ने कहा था कि आरोपी ने मिडल फिंगर दिखाकर भद्दी टिप्पणियां कीं और मारपीट भी की। जांच के बाद पुलिस ने आईपीसी की धारा 509 और 323 के तहत मामला दर्ज किया। 8 अक्टूबर 2015 को आरोपी के खिलाफ चार्ज फ्रेम किए गए। कोर्ट के सामने अभियोजन पक्ष की तरफ से शिकायतकर्ता सहित चार गवाह पेश हुए। महिला ने कहा कि आरोपी ने उसे थप्पड़ भी मारा था।आरोपी ने खुद का बचाव करते हुए दावा किया कि यह जमीन विवाद का मामला था और उसकी बहन भी इस मामले में गवाह हो सकती है। आरोपी की बहन ने कहा कि वह दिनभर घर पर ही था और महिला ने उसके खिलाफ गलत शिकायत की है। इस मामले में जज ने इस पर गौर किया कि महिला को मिडल फिंगर दिखाने के साथ भद्दी गालियां दी गईं।

उसने कहा था कि प्रॉपर्टी को लेकर उसका झगड़ा हुआ था उसी के बाद उसने ऐसी हरकत की थी। अभियोजन पक्ष ने इस मामले में 4 गवाह भी पेश किए। मामले की लगातार सुनवाई के बाद कोर्ट ने जांच में किसी प्रकार की प्रॉपर्टी विवाद का मामला नहीं पाया। इसके बाद आरोपी की याचिका को भी रद्द कर दिया गया। कोर्ट ने शिकायतकर्ता की शिकायत के आधार पर ही फैसला सुनाते हुए आरोपी को दोषी ठहरा दिया।