अमर भारती : रायबरेली में रेलकोच कारखाने के कर्मचारी रेलवे बोर्ड के द्वारा कारखाने के निगमीकरण के प्रस्ताव के खिलाफ लगातार आन्दोलन जारी है। एमसीएफ बचाओ संघर्ष समिति के अध्यक्ष नैब सिंह के नेतृत्व मे निगमीकरण के प्रस्ताव को रोकने के लिये यूनियन नेताओ ने कोच कारखाने के जीएम को  ज्ञापन सौंपा है। साथ ही संयुक्त संघर्ष समिति ने सेकेट्री टू जीएम पद पर किसी अनुभवी अधिकारी की नियुक्ति की भी मांग की है। नवनियुक्त सेकेट्री को बदलने की मांग यूनियन नेताओ ने की है।
एमसीएफ यूनियन लीडर नैब सिंह ने बताया कि एमएलसी श्रीमती कांति सिंह के द्वारा निगमीकरण के खिलाफ दिये गये मांग पत्र को भी जीएम को सौंपा गया है। उल्लेखनीय है कि श्रीमती कांति सिंह ने अपने पत्र मे कहा है कि स्थानीय कोच कारखाना बेहतरीन उत्पादन के रूप मे प्रमाण पत्र पा चुका है। हजारो लोगो को रोजगार मिल रहा है। कोच कारखाना स्थानीय क्षेत्र के लिये विकास की धुरी साबित हो रहा है। ऐसे मे रेलवे बोर्ड को निगमीकरण का प्रस्ताव वापस लेना चाहिये।जीएम ने एमसीएफ संघर्ष समिति के सदस्यो को आवस्त किया है कि वो लगातार चल रहे विरोध प्रर्दान से रेलवे बोर्ड को अवगत करा रहे है। जीएम ने कर्मचारियो के द्वारा कोच कारखाने के उत्पादन को बढाने मे दिये गये योगदान की प्रांसा भी की है। इस अवसर पर रूकमके मीना,राके तिवारी,तेजपाल सिंह,सुील गुप्ता आदि लोग मौजूद रहे।