अमर भारती : राजधानी दिल्ली ने देश के बाकी सभी शहरों को गांजा फूंकने के मामले में पीछे कर दिया है तो वहीं आर्थिक राजधानी मुंबई दूसरे स्थान पर है। अगर दुनिया भर के बड़े शहरों को देखें तो दिल्ली का स्थान तीसरा और मुंबई का छठा स्थान है। एक सर्वे रिपोर्ट में यह बात साबित हो चुकी है। सूत्रो के अनुसार साल 2018 में गांजे की सर्वाधिक मात्रा का इस्तेमाल करने के मामले में दिल्ली और मुंबई का नाम भी शामिल है। यह संगठन गांजे को वैधानिक दर्जा देने की भी मांग करता है और इसके लिए गांजा मूल्य सूचकांक भी जारी करता है। हालांकि भारत में गांजा प्रतिबंधित है।

गौरतलब है कि दिल्ली ने बीते साल 38.3 टन तो मुंबई ने 32.4 टन गांजे की खपत की। दुनिया में इसकी सर्वाधिक खपत न्यूयार्क में होती है। यहां साल 2018 में 77.4 टन गांजे का सेवन किया गया। इसके बाद पाकिस्तान के कराची का नंबर है, जहां 42 टन गांजे की खपत हुई। अमेरिका के दो शहर लॉस एंजिल्स 36 टन के साथ चौथे और शिकागो 24.55 टन खपत के साथ आठवें पायदान पर है। इनके अलावा काहिरा, लंदन, मास्को और टोरंटो के नाम भी इस सूची में शामिल हैं।