अमर भारती : पूनिया जी के एक ट्वीट से एक दिवस पुर्व, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने राज्य में एक सभा के दौरान कह दिया कि लोग कह रहे थे कि अनुच्छेद-370 के समाप्त होने के बाद अब कश्मीर की महिलओं से निगाह कर सकते है।अनुच्छेद-370 के समाप्ति के बाद से कई राजनेताओं ने जम्मू एवं कश्मीर की स्त्रीयों पर आपत्तिजनक बयान दिया। इसी के विरोध मे पहलवान ने शांतिपुवर्क ट्वीट संदेश साझा किया।

अनुच्छेद-370 के कारण जम्मू एवं कश्मीर को विशेष दर्जा मिलता आया था, जिसे केंद्र सरकार ने खारिज कर दिया। इसी विषय को लेकर कश्मीर में धारा 370 की समाप्ति के बाद सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर कश्मीर की लड़कियों के बारे मे आपत्तिजनक मीइम्स, ट्वीटस, आदि प्रचलित थे, लेकिन बाद में हरियाणा का मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के भाषण ने इस विवाद को और तुल दिया ।

मनोहर लाल खट्टरः अनुच्छेद-370  के समाप्ती के बाद अब कश्मीर की महिलओं से शादी की जा सकती है। खट्टर के इस बयान पर काफी लोगों ने आपत्ति जाहिर की थी। और लोगों ने उनकी सोच पर कई प्रश्न खड़े किए थे, जिसके बाद हरियाणा के मुख्यमंत्री ने सफाई भी दी थी।

पूनिया ने शुक्रवार को ट्वीट कर कहा , “ना कश्मीर में ससुराल चाहिए, ना ही वहां पर मकान चाहिए, बस कोई फौजी शरीर तिरंगे में लिपटकर न आये, अब ऐसा हिंदुस्तान चाहिए. जय हिंद जय भारत.” । बजरंग पूनिया के इस ट्वीट को लोगों ने काफी सराहा और इस पर बड़ी संख्या में लोगों की  आनुकूल प्रतिक्रिया देखने को मिली।

इससे पहले, उत्तर प्रदेश में भाजपा विधायक विक्रम सिंह सैनी ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से कहा था कि अब कश्मीर की महिलाओं से शादी करने के अधिकार का लाभ उठाए।इन बयानो से यह जाहिर होता है कि विधायक हो या मुख्यमंत्री या हो कोई राजनेता सब की मानसिकता कितनी निम्न कोटि की है। पर साथ ही पूनिया जी जैसे लोग है जिनकी सोच महिलाऔ के बारे उतम है ।

रिपोर्ट- सोनू यादव