अमर भारती : महंगाई के मोर्चे पर केंद्र सरकार के लिए अच्छी खबर आ रही है। सरकारी आंकड़ों की माने तो जुलाई में थोक महंगाई दर 1.08 फीसदी पर रही। थोक महंगाई का यह आंकड़ा करीब 23 महीने का निचला स्तसर है। जुलाई में ईंधन-बिजली की थोक महंगाई दर में बड़ी कमी देखने के मिली है।

इससे पहले जून में महंगाई की दर 2.02 फीसदी पर थी। इस लिहाज से एक महीने में महंगाई दर 0.94 फीसदी कम हुआ है। वहीं एक साल पहले से तुलना करें तो यह 4.19 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। यहां बता दें कि एक साल पहले जुलाई 2018 में थोक महंगाई दर के आंकड़े 5.27 फीसदी पर थे।

हालांकि मंगलवार को खुदरा महंगाई दर के जो आंकड़े आए थे उसके अनुसार जुलाई में खुदरा महंगाई दर 3.15 फीसदी पर आ गई है। वहीं एक साल पहले जुलाई 2018 में खुदरा महंगाई दर 4.17 फीसदी पर रही थी। यानी 1 फीसदी से अधिक की कमी देखने को मिली है।

गौरतलब है कि सरकार ने केंद्रीय बैंक को खुदरा महंगाई दर 4 फीसदी के दायरे में रखने की को कहा है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया महंगाई के आंकड़ों के आधार पर रेपो रेट में बदलाव कर सकता है। महंगाई के आंकड़े जितने कम होंगे आरबीआई रेपो रेट में भी उतना ज्यारदा इजाफा हो सकता है।