अमर भारती : पिछले कुछ सालों में निर्यात में जारी बढ़त के चलते 2024-25 तक रक्षा उत्पादों का निर्यात 35,000 करोड़ रुपये के लक्य्च को पार कर सकता है। रक्षा उत्पादन विभाग के सचिव अजय कुमार ने कहा कि 2024-25 तक निर्यात 35,000 करोड़ पार करने की उम्मीद है।

दरअसल रक्षा उत्पादन में निजी क्षेत्र की भागीदारी भी पिछले कुछ समय में बढ़ी है। उन्होंने यहां भारत चैंबर ऑफ कॉमर्स पर रक्षा उत्पादन के लिए सुविधा केंद्र का भी शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि रक्षा निर्यात बहुत तेजी से बढ़ रहा है। यह एक बड़े पत्थर की तरह है जिसे हिलाना संभव नहीं लेकिन यदि इसने एक बार लुढ़कना शुरू कर दिया तो इसमें सिर्फ तेजी ही आ सकती है।

पिछले वित्त वर्ष में रक्षा उत्पादों का निर्यात 10,700 करोड़ रुपये का हुआ था। चालू वित्त वर्ष में केंद्र सरकार ने इसके लिए 20,000 करोड़ रुपये का लक्ष्य रखा है। चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में पहले ही 5,600 करोड़ रुपये का निर्यात किया जा चुका है।

कुमार ने कहा कि सरकार निजी क्षेत्र को प्रोत्साहन देने के लिए कई कदम उठा रही है। खासतौर से सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम क्षेत्र को रक्षा उत्पादन क्षेत्र में प्रोत्साहित करने के लिए मौजूदा उत्पादन नीति में प्रोत्साहन दिया गया है।