अमर भारती : आजकल के समय में यूरिक एसिड बढ़ना बहुत ही आमबात हो चुकी है।दरअसल,हमारे शरीर में प्रोटीन एमिनो-एसिड के संयोजन से बना होता है और पाचन प्रक्रिया के दौरान जब प्रोटीन टूटता है तो शरीर में यूरिक एसिड बनता है, प्यूरिन खाने की चीजों में पाया जाता है और खाने के जरिए यह शरीर में पहुंचता है और फिर खून के जरिए किडनी तक। जब शरीर में प्यूरीन न्यूक्लिओटाइडों टूट जाती है तब भी यूरिक एसिड बनता है,इससे शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा ज्या़दा बनने लगती है।जिसके चलते गठिया ,पैरों में दर्द, जोड़ों में दर्द और एड़ियों में दर्द महसूस होने के अलावा गांठों में सूजन हो जाती है।

तो आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि यूरिक एसिड में बढ़ जाने की स्थिति में आप किन चाजों का सेवन करना चाहिए और किन चाजों से परहेज-

– अपने आहार में विटामिन ‘‘सी’’ को करें शामिल।

– हाई फाईबर फूड लें। यह यूरिक एसिड को सोखने का काम करता है।

– विटामिन ‘डी’ से भरपूर फलों का सेवन करें जिनमें आंवला,अमरुद,संतरा,बेरी आदि शामिल हैं।

– ज्या़दा से ज्या़दा पानी पियें।

– कम फैट वाला दूध और डेयरी प्रोडक्ट्स का सेवन करें।

– रोजा़ना नारियल पानी का सेवन करें।

– लौकी,गाज़र,चुकंदर का जूस पियें।

– सुबह खाली पेट गरम पानी में नींबू का रस लें।

– सेब का सिरका पानी में मिलाकर पीना यूरिक एसिड को कम करने में कारगर साबित होता है।

 

यदि आप पत्रकारिता क्षेत्र में रूचि रखते है तो जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से:-