अमर भारती : वजीरगंज क्षेत्र में 23 मई को लोकसभा चुनावों के परिणाम आते ही मीडिया की सुर्खियाँ बटोरने के लिये उसी दिन  प्रधानमंत्री के नाम पर एक मुस्लिम महिला द्वारा 23 मई को ही अपने बेटे के पैदा होने व उसका नाम नरेंद्र दामोदर दास मोदी रखने का दावा यहाँ फर्जी साबित हुआ है।बच्चे का असली नाम अल्ताफ मोहम्मद है व वह चुनाव परिणाम आने से 11दिन पूर्व 12 मई को पैदा हुआ था।

मतगणना के दिन पुत्र का जन्म बताकर उसका नाम देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम पर रखने वाली मुस्लिम महिला की जिस खबर को राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय मीडिया ने अपनी सुर्खियां बनाई। छानबीन मे उसकी जो हकीकत सामने आई है उसे जानकर आपके पैरों तले जमीन खिसक जाएगी।

फर्जी दावा करने वाली महिला मैनाज पत्नी मुस्ताक अहमद की सच्चाई यह है कि, महिला का पुत्र 23 मई को नहीं बल्कि 11 दिनों पूर्व 12 मई को ही पैदा हो गया था। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर कार्यरत महिला चिकित्सक डॉ. भावना अवस्थी के मुताबिक 12 मई को प्रातः वजीरगंज क्षेत्र के परसापुर महरौड़ निवासिनी महिला मैनाज प्रसव के लिए सीएचसी में भर्ती हुई थी। जिसने दोपहर 12:59 पर उस बच्चे को जन्म दिया था। जिसका स्वास्थ्य केंद्र के अभिलेखों में दर्ज है। मैनाज बेगम द्वारा 23 मई को बेटे का जन्म का दावा पूरी तरह सच्चाई से परे है।

 

सुर्खियाँ बनने के लिये किया मजाक

तमाम दावों के बावजूद मुस्लिम समाज में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की स्वीकार्यता नहीं है,ऐसे हालात में यदि ऐसी कोई बात सामने आती है तो उस पर सवाल खड़ा होना लाजिमी है। क्योंकि मुस्लिम समाज के किसी परिवार द्वारा ग्रामीण क्षेत्र में अपने बच्चे का नाम नरेंन्द्र मोदी के नाम पर रखना नामुमकिन है,क्यों कि अगर कोई परिवार ऐसा कर भी दे तो उस समाज में उसके बने रहना सम्भव नहीं होगा। क्योंकि मुस्लिम समाज अपने धर्म व आदर्शों से कभी समझौता नहीं करता। मैनाज का दावा सिर्फ मीडिया व सत्तारुढ़ दल को प्रभावित करके सुर्खियाँ बटोरना व किसी तरह का आर्थिक लाभ लेना हो सकता है।

टी आर पी बढा़ने के चक्कर में खबरें होती हैं सत्य से परे

लोग बताते हैं कुछ समाचार पत्रों द्वारा महज टीआरपी के लिये ऐसी अतार्किक खबरों को प्रायोजित की जाती है।खबरों में कभी अवध के नवाब को सिराजुद्दौला बताया जाता है तो कभी नीम वाला गाँव बनाकर उसकी पूजा करवाई जाती है। जिसका यथार्थ से कोई वास्ता नहीं होता।

यदि आप पत्रकारिता क्षेत्र में रूचि रखते है तो जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से:-