अमर भारती : कपिल देव जिन्होंने कि भारत को विश्व कप में पहली जीत दिलवाई थी। उन्होंने कहा कि धोनी के जितना योगदान शायद ही क्रिकेट में किसी और ने दिया होगा। धोनी ने अपनी कप्तानी में भारत को 2007 में टी-20 और 2011 में 50 ओवरों का वर्ल्ड कप खिताब दिलाया।

दरअसल अब धोनी अपने अंतर्राष्ट्रीय करियर के अंतिम चरण पर हैं। हालांकि पिछले साल उनके प्रदर्शन में कुछ हद तक कमी देखी गई थी। जिसपर कई लोगों ने उनकी टीम में होने की आलोचना भी की थी। हालांकि कपिल के मन में धोनी के लिए सम्मान कम नहीं हुआ है।

वैसे इतना तो तय है कि 30 मई को शुरु होने वाले विश्व कप में धोनी भाग लेंगे और यह उनका आखिरी विश्व कप हो सकता है। कपिल ने कहा कि अभी यह नहीं कहा जा सकता कि धोनी कब तक खेल सकते हैं या फिर उनका शरीर कब तक मैदान पर उनका साथ देगा। मगर हमें धोनी का सम्मान करना चाहिए और वह जब तक चाहें इस खेल में भाग ले सकते हैं।

कपिल देव ने मौजूदा भारतीय टीम के बारे में कहा कि अगर सब कुछ ठीक रहा तो इस बार विश्व कप जीतने के साथ ही भारत लौटेगी टीम।

चयनकर्ताओं ने आगामी टूर्नामेंट के लिए युवा विकेटकीपर ऋषभ पंत को न चुन कर 33 साल दिनेश कार्तिक को दूसरे विकेटकीपर के रूप में चुना है। इस पर कपिल ने कहा  कि अब हमें इस फैसले का सम्मान करना चाहिए। हमें यह मानना चाहिए कि चयनकर्ताओं ने अच्छा काम किया है।

यदि आप पत्रकारिता क्षेत्र में रूचि रखते है तो जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से:-