अमर भारती : शुक्रवार के मुकाबले में न केवल विराट कोहली ने शतक बनाया बल्कि अपनी टीम को भी जीत दिलवाने में कामयाब रहे। अब तक इस आईपीएल में बैंगलोर की यह दूसरी जीत है जबकि कोलकाता लगातार तीसरी हार के साथ अंकतालिका में नीचे खिसकती हुई दिखाई दे रही है।

हालांकि कहा जा सकता है कि शुक्रवार के मैच में भले ही कोलकाता की टीम जीत न पाई हो लेकिन जिस तरह से इस टीम के खिलाड़ी रसेल और राणा ने आखिर में टीम को हार से बचाने के लिए कोशिश की उसकी जितनी भी तारीफ की जाए वो कम है। इन दो खिलाड़ियों के बीच कुल 118 की साझेदारी हुई जिसकी बदौलत कोलकाता ने आखिरी गेंद तक इस मैच को जीतने की कोशिश की।

लक्ष्य का पीछा करने उतरी कोलकाता की टीम की शुरुआत अच्छी नहीं रही और इसके चलते रन बनाने का दबाव बाकी के खिलाड़ियों पर बना रहा। फिर जब रसेल और नीतीश राणा मैदान पर आए तो एक बार तो ऐसा लगा था कि कोहली की टीम को एक और हार का सामना करना पड़ेगा क्योंकि इन दोंनों खिलाड़ियों ने ऐसा कमाल कर दिखाया कि अपनी टीम को मैच में वापस ले आए थे लेकिन आखरी ओवर में रसेल के रन आउट होने पर सब कुछ बदल गया और बैंगलोर यह मुकाबला जीत गई।

आपको बता दें कि इससे पहले टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए बैंगलोर ने निर्धारित 20 ओवरों में 3 विकेट के नुकसान पर 213 रन बनाए। इसमें विराट कोहली की शानदार शतकीय पारी भी शामिल है जो कि अभी तक के आईपीएल करियर में उनका पांचवा शतक है।

गौरतलब है कि बल्लेबाजी करने उतरी बैंगलोर ने कोहली की वजह से अच्छी शुरुआत की पर चौथे ओवर की दूसरी गेंद पर मेहमान टीम को पार्थिव पटेल (11) के रूप में पहला झटका लगा। सुनील नरेन ने पार्थिव को नीतीश राणा के हाथों कैच आउट कराकर चलता किया। इसके बाद बल्लेबाजी करने आए अक्षदीप नाथ भी 13 रन बनाकर चलते बने। उन्हें आंद्रे रसेल ने उथप्पा के हाथों कैच आउट कराकर चलता किया। अक्षदीप के रूप में बैंगलोर को दूसरा झटका लगा।

यहां से मोइन और विराट ने पारी को संभाला और दोंनों खिलाड़ियों ने अगले विकेट तक कुल 90 रन जोड़े। कुलदीप के 16वें ओवर में 27 रन बटोरने के बाद आखिरी गेंद पर मोइन ने कुलदीप को विकेट थमा दिया। आउट होने से पहले मोइन ने मात्र 28 गेंदों में 5 चौके और 6 छक्के की मदद से 66 रनों की तूफानी पारी खेली।

यदि आप पत्रकारिता क्षेत्र में रूचि रखते है तो जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से:-