अमर भारती : भारतीय क्रिकेट टीम के कोच रवि शास्त्री ने कहा है कि अगर उनका बस चलता तो वे विश्व कप की सूचि में 15 नहीं 16 खिलाड़ी चुनते मगर वह ऐसा कर नहीं सकते। उन्होंने ऋषभ पंत और अंबाती रायडू जैसे खिलाड़ियों से सहानूभुति दिखाते हुए यह कह डाला कि अगर किसी वजह के चलते उनका चयन विश्व कप 2019 की टीम में नहीं हो पाया है तो इन खिलाड़ियों को निराश होने की कोई जरुरत नहीं है। इन्हें जीवन में आगे खेलने के लिए और मौके मिलेंगे।

दरअसल 30 मई को शुरु होने वाले विश्व कप 2019 के लिए 15 खिलाड़ियों की घोषणा कर दी गई है, और इन संभावित खिलाड़ियों की सूचि में ऋषभ पंत और अंबाती रायडू जैसे खिलाड़ियों का नाम न होने से इस विषय पर बहस पहले से ही चल रही है। शास्त्री ने साफ तौर पर कहा है कि अगर उनके मन में कोई बात होती है तो वह टीम के कप्तान को बता देते हैं, हालांकि उनका यह भी मानना है कि टीम के चयन में नहीं पड़ना चाहते।

उनके अनुसार यह काफी दुर्भाग्यपूर्ण हो जाता है जब किसी खिलाड़ी को विश्व कप के लिए न चुना जाए या फिर टीम से बाहर रखा जाए क्योंकि यह एक खिलाड़ी का सपना होता है कि वह विश्व कप में अपने देश के लिए खेल सके। उन्होंने कहा कि मैं 16 खिलाड़ियों को शामिल करना चाहता था। उन्होंने आईसीसी से भी इस बारे में बात की थी कि जब एक टूर्नामेंट इतने दिनों तक चलता है तो इसमें 16 खिलाड़ी क्यों नही हो सकते। लेकिन आखिरकार आईसीसी के भी कुछ नियम हैं जिनका विश्व कप में खेलने के लिए सभी टीमों को पालन करना पड़ता है।

शास्त्री ने कहा कि जो खिलाड़ी इस सूची में जगह नहीं बना पाए हैं वो मेहनत करते रहें क्योंकि यह एक बड़ा टूर्नामेंट है और पता नहीं होता कि कब कोई खिलाड़ी घायल हो जाए तो उसकी जगह पर टीम से बुलावा आ सकता है।

गौरतलब है कि जब उनसे विजय शंकर के चौथे स्थान के लिये पूछा गया तो उन्होंने बताया कि कप्तान विराट कोहली ने कुछ महीने पहले ही रायुडू को इस स्थान के लिये दौड़ में सबसे आगे बताया था। तो इस पर शास्त्री ने कहा कि यह स्थान हमेशा ही लचीला होता है। उन्होंने कहा, ‘परिस्थितियों और प्रतिद्वंदी को देखते हुए चौथे नंबर का स्थान पूरी तरह से लचीला है। मैं कहूंगा कि शीर्ष तीन…के बाद आप बहुत ही लचीले हो सकते हो।

यदि आप पत्रकारिता क्षेत्र में रूचि रखते है तो जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से:-