अमर भारती : लोकसभा चुनाव का दौर जारी है और इसी दौर में नेताओं का मंदिरों, पूजा स्थलों में आने जाने का दौर भी जारी है। लेकिन इस दौर में भीड़ का शिकार भी होना या हादसों का शिकार भी होना पड़ सकता है, इस बात से कुछ नेता काफी अनजान हैं। इसी बात का शिकार कांग्रेस सांसद और तिरुवनंतपुरम से लोकसभा प्रत्याशी शशि थरूर को होना पड़ा दरअसल सोमवार को मंदिर में पूजा करते हुए वह काफी बुरी तरह से घायल हो गए। जानकारी के मुताबिक यह हादसा तब हुआ जब वह मंदिर में थुलाभरम भेंट कर रहे थे। आपको बता दें कि यह घटना थमपनूर के गांधारी अम्मन कोविल मंदिर में घटित हुई। आपको ये जानकर भी हैरानी होगी की ये हुआ कैसे दरअसल जब नेताजी तराजू पर बैठे थे तभी वह तराजू गिरकर टूट गया और वह बुरी तरह से गिर गए।

जानकारी मिली है कि इस हादसे में थरूर को सिर और पैरों में चोट लगी है और उनके सिर पर छह टांके भी आए हैं। हादसे के बाद उन्हें इलाज के लिए फौरन नजदीकी अस्पताल ले जाया गया। जहां से उन्हें सुपर स्पेशिएलिटी अस्पताल में शिफ्ट कर दिया गया। डॉक्टरों ने जानकारी दी है कि वह खतरे से बाहर हैं। यहां कांग्रेसी नेता प्रचार करने आए थे जिसके चलते उन्हें इस हादसे का शिकार होना पड़ा। उन्होंने चुनाव प्रचार अभियान की शुरुआत करने से पहले काजाखुट्टम निर्वाचन क्षेत्र में थुलाभरम किया।

उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा, ‘काजाखुट्टम से कल एक अनोखे तरीके से अपनी पर्यदमन की शुरुआत केलों के थुलाभरम से की। कम से कम मंदिर में मैं यह दावा कर सकता हूं कि मैं एक वजनी राजनेता हूं।’ इस निर्वाचन क्षेत्र से थरूर दो बार सांसद बन चुके हैं। बता दें कि केरल की सभी 20 सीटों के लिए 23 अप्रैल को मतदान होंगे।

यदि आप पत्रकारिता क्षेत्र में रूचि रखते है तो जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से:-