अमर भारती : आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर विपक्षी महागठबंधन मे लंबे समय माथापच्ची के बाद भी सिरदर्द बना हुआ सीटों को लेकर पेच अब जाकर सुलझ चुका है। महागठबंधन में सीटों के एलान के बाद दरभंगा की सीट, राजद के खाते में गई है तो सुपौल की लोकसभा सीट कांग्रेस के खाते में गई है। इसका मतलब ये हुआ कि  कीर्ति आजाद अब दरभंगा से नहीं लड़ सकेंगे।

तेजस्वी यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए सीटों का एलान करते हुए कहा कि हागठबंधन अटूट है। ये सच-झूठ की लड़ाई है। बगावत के बारे में उन्होंने कहा कि पार्टी में हर नेता को सुझाव और राय देने का अधिकार है। प्रेस वार्ता के दौरान कांग्रेस ने भी बिहार से कुछ उम्मीदवारों के नामों की घोषणा की है।  सीटों के एलान के मुताबिक बिहार के सासाराम से लोकसभा की पूर्व स्पीकर मीरा कुमार एक बार फिर से चुनावी मैदान में उतारा गया है। वहीं बिहार के बाहुबली विधायक अनंत सिंह की पत्नी नीलम देवी को मुंगेर से और पप्पू यादव की पत्नी रंजीत रंजन को सुपौल से टिकट दिया गया है।

राजद की सीटें-

नवादा

बांका

भागलपुर

मधेपुरा

दरभंगा

वैशाली

गोपालगंज

सीवान

महाराजगंज

सारण

हाजीपुर

बेगूसराय

पाटलिपुत्र

बक्सर

जहानाबाद

झंझारपुर

अररिया

सीतामढ़ी

शिवहर

वहीं आरा की लोकसभा सीट सीपीआई एमएल को दी गई है।

राजद के उम्मीदवार

जयप्रकाश यादव –बांका से

शरद यादव- मधेपुरा से

अब्दुल बारी सिद्दीकी – दरभंगा से

रघुवंश प्रसाद – वैशाली से

सुरिंदर राम – गोपालगंज से

बुलो मंडल – भागलपुर से

रणधीर सिंह – महाराजगंज से

चंद्रिका राय – सारण से

श्रीचंद्र राव – हाजीपुर से

तनवीर हसन – बेगूसराय से

मीसा भारती – पाटलिपुत्र से

सुरेंद्र यादव – जहानाबाद से

विभा देवी – नवादा से

गुलाब यादव – झंझारपुर से

सरफराज आलम – अररिया से

अर्जुन राय – सीतामढ़ी से

आरएलएसपी के लिए-

पश्चिमी चंपारण

पूर्वी चंपारण

उजियारपुर

बेतिया

जमुई की सीटें छोड़ी गई हैं।

कांग्रेस के लिए 

समस्तीपुर

मुंगेर

पटना

साहिब

सासाराम

वाल्मीकि

नगर

सुपौल

किशनगंज

 कटिहार

 पूर्णिया

हम के लिए

नालंदा

गया

औरंगाबाद

 

वीआईपी के लिए

खगड़िया

मुजफ्फरपुर

मधुबनी

यदि आप भी मीडिया क्षेत्र से जुड़ना चाहते है तो, जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से:-