अमर भारती : करतारपुर कोरिडोर संबंधी पैनल में भारत ने पाकिस्तान द्वारा खालिस्तानी अलगाववादियों को नियुक्त किए जाने  पर चिंता व्यक्त करते हुए पाकिस्तान के उप उच्चायुक्त को तलब किया है साथ ही साथ करतारपुर कोरिडोर संबंधी अहम प्रस्तावों पर स्पष्टीकरण मांगा है। सूत्रों के मुताबिक, भारत ने पाकिस्तान से अटारी में करतारपुर साहिब गलियारा संबंधी बैठक में उसके द्वारा पेश किए गए अहम प्रस्तावों पर स्पष्टीकरण मांगा है।

सूत्रों के मुताबिक पहले करतारपुर पर एक दस सदस्यीय समिति पाकिस्तान कैबिनेट द्वारा स्थापित की गई थी। समिति में कुछ विवादित नाम हैं जिसमें गोपाल चावला का नाम भी शामिल हैं। बता दें कि वह लश्कर-ए-तैयबा और बिशेन सिंह के संपर्क में है।सरकार का कहा है कि सुरक्षा से कोई समझौता नहीं किया जाएगा। भारत को उम्मीद है कि पाकिस्तान सुरक्षा संबंधी चिंताओं को दूर करेगा।

भारत की ओर से ने प्रस्ताव दिया गया है कि रोजाना 5,000 श्रद्धालु और विशेष दिवस पर 15,000 लोग मत्था टेकने के लिए जाएंगे। इसके अलावा कॉरिडोर का इस्तेमाल हर धर्म के लोग कर सकते हैं। कॉरिडोर ओवरसीज सिटिजन ऑफ इंडिया के कार्डधारकों के लिए भी उपलब्ध होगा जिसके लिए पाकिस्तान राजी नहीं है। भारत ने कॉरिडोर को सातों दिन खुला रखने के लिए कहा है।

यदि आप भी मीडिया क्षेत्र से जुड़ना चाहते है तो, जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से:-