अमर भारती : जम्मू कश्मीर के पुलवामा आतंकी हमले को लेकर पाकिस्तान का बड़ा झूठ सामने आया है। पुलवामना हमले को लेकर पाकिस्तान की ओर से कहा गया है कि इस हमले के बाद जिन 54 संदिग्ध लोगों को हिरासत में लिया गया था वो पुलवामा हमले की साजिश में शामिल ही नहीं थे। पाकिस्तान ने कहा है कि इन सभी को हिरासत में लेकर जांच की गई लेकिन जांच के दौरान इस हमले से जुड़ा कोई भी सबूत नहीं बरामद हुआ है। पाकिस्तान की ओर से कहा गया है कि इन संदिग्धों का हमले से कोई भी संबध नहीं है। पाकिस्तान के विदेश विभाग द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि भारत ने जो 22 लोकेशन बताई हैं, उनकी जांच की गई है। वहां कोई आतंकी शिविर नहीं है। पाकिस्तान विदेश बिभाग बयान में कहा गया है कि पाकिस्तान अनुरोध करने पर इन जगहों यात्रा की इजाजत दे सकता है।

बता दें कि भारत ने पुलवामा आतंकी हमले को लेकर आतंकी मसूद अजहर के खिलाफ पाकिस्तान को कई सारे सबूत सौंपे थे। खास बात तो ये है कि पाकिस्तान को ये सभी सबूत तब सोंपे गए जब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने हमले के सबूतों पर कार्रवाई करने की बात कही थी।

यदि आप पत्रकारिता जगत से जुड़ना चाहते है तो, जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यू