अमर भारती : लोकसभा चुनाव को लेकर प्रचार का दौर शुरू हो गया है। लेकिन प्रचार के दौर में नियमों का उल्लंघन भा होता दिख रहा है। ऐसे में रेलवे और एयर इंडिया की टिकट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीरों को चुनाव आयोग ने आचार संहिता का उल्लंघन मानते हुए रेल मंत्रालय और नागरिक उड्डयन मंत्रालय को पत्र लिखकर जवाब मांगा है। चुनाव आयोग द्वारा जवाब में पूछा गया है कि आदर्श आचार संहिता लागू होने के बाद भी रेल टिकट से प्रधानमंत्री की तस्वीरें क्यों नहीं हटाई गई और तस्वीर लगी हवाई यात्रा पास क्यों जारी की गई! आचार संहिता का उल्लंघन मानते हुए चुनाव आयोग ने मंत्रालयों से तीन दिनों में जवाब मांगा है।

इस मामले पर एयर इंडिया के प्रवक्ता धनंजय कुमार का कहना है कि ऐसा लग रहा है कि यह बोर्डिंग पास वही है जो जनवरी में हुए वाइब्रेंट गुजरात सम्मेलन के दौरान छपे थे और तस्वीरें ‘तीसरे पक्ष’ के विज्ञापनों का हिस्सा हैं। एयर इंडिया के प्रवक्ता ने कहा कि इसका एयर इंडिया से इसका किसी भी प्रकार का लेना देना नहीं है। हम जांच कर रहे हैं कि क्या तीसरे पक्ष के विज्ञापन आदर्श आचार संहिता के दायरे में आते हैं या नही। अगर जांच में ऐसा लगा कि यह आचार संहिता में आते हैं तो इन्हें हटाया जाएगा। ये बोर्डिंग पास ना केवल गुजरात बल्कि पूरे भारत के लिए हैं।

20 मार्च को रेलवे ने प्रधानमंत्री की तस्वीरों वाली टिकटों को वापस लिया था। बता दें कि तृणमूल कांग्रेस ने इनके बारे में निर्वाचन आयोग से शिकायत की थी।

यदि आप भी मीडिया क्षेत्र से जुड़ना चाहते है तो, जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से:-