अमर भारती : बीजेपी आने वाले लोकसभा चुनाव के साथ साथ गोवा में अपना मुख्यमंत्री पद का चेहरा बदल सकती है, दरअसल इसकी वजह राज्य के मुख्यमंत्री मनोहर परिकर की तबियत है। उनकी तबियत खराब होती जा रही है। यही वजह है कि शनिवार से भाजपा राज्य में अपनी सरकार बचाने की कवायद करती नजर आई, क्योंकि कांग्रेस ने राज्यपाल को पत्र लिखकर एक बार फिर से सरकार बनाने का दावा पेश किया है। दूसरी तरफ भाजपा ने नए मुख्यमंत्री की तलाश भी शुरू कर दी है। शनिवार शाम को विधायक दल की बैठक में भाजपा विधायकों ने पार्टी के नेताओं से कहा है कि मुख्यमंत्री चुने हुए विधायकों में से ही एक होना चाहिए।

संभावना है कि भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व गोवा में अपने दूत भेजेगा ताकि विधायकों के साथ विचार-विमर्श करके मुख्यमंत्री के उम्मीदवार का नाम तय किया जा सके। वह गठबंधन के साथियों के साथ भी बैठक करेंगे। गौरतलब है कि भाजपा गोवा में महाराष्ट्रवादी गोमंतक पार्टी, गोवा फॉरवर्ड पार्टी और तीन निर्दलीय विधायकों के साथ गठबंधन में है और गठबंधन सहयोगी गोवा फॉरवर्ड पार्टी के तीन विधायक और तीन स्वतंत्र विधायक परिकर के निजी आवास में शनिवार शाम को एकजुटता दिखाने के लिए पहुंचे थे।  कैबिनेट मंत्री विजय सरदेसाई के नेतृत्व में विधायकों ने कहा कि मुख्यमंत्री की हालत बेशक खराब होती जा रही है, इसके बावजूद सभी विधायक तब तक परिकर सरकार के साथ रहेंगे जब तक कि वह मुख्यमंत्री के पद पर रहेंगे। सरदेसाई ने यह भी कहा कि कुछ भी नया करने का सवाल नहीं है लेकिन अगर भाजपा कुछ करना चाहती है तो हम उसके साथ हैं।  इससे पहले दिन में कांग्रेस ने राज्यपाल मृदुला सिन्हा को चिट्ठी लिखकर गोवा में सरकार बनाने का दावा पेश किया था।

पार्टी का कहना था कि फ्रांसिस डिसूजा के निधन के बाद से विधानसभा में भाजपा के 13 विधायक हैं। मनोहर परिकर के नेतृत्व वाली सरकार लोगों का विश्वास खो चुकी है। ऐसे में जो पार्टी अल्पमत में है, उसको सरकार में रहने का कोई हक नहीं है। हम चाहते हैं कि मौजूदा सरकार को बर्खास्त किया जाए और सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस को सरकार बनाने का मौका दिया जाए। भाजपा के दयानंद मांडरेकर ने कहा कि अगर मनोहर परिकर फिट होते तो भाजपा को कोई नेता बदलने की जरूरत नहीं होती लेकिन उनकी हालत इस सनय भी बहुत गंभीर है और उनकी हालत दिन प्रति दिन बिगड़ती जा रही है। पार्टी को अब एक सही निर्णय लेना चाहिए। केंद्र से गोवा के लिए कुछ फैसले लिए जाने चाहिए और मुझे लगता है ऐसा होना चाहिए।

यदि आप पत्रकारिता जगत से जुड़ना चाहते है तो, जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यू

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here