अमर भारती : पोंजी घोटाला मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने सोमवार को बड़ी कार्रवाई की है पश्चिम बंगाल की सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस के सांसद केडी सिंह की 238 करोड़ की संपत्ति सीज कर लिया है। पोंजी घोटाले में टीएमसी नेता की संलिप्तता को लेकर ईडी ने हिमाचल, चंडीगढ़ और हरियाणा में कई जगह छापेमारी की है।

ईडी ने हिमाचल के कुफरी में टीएमसी सांसद के रिसॉर्ट, चंडीगढ़ में उनके शोरूम और हरियाणा में उनकी कई संपत्तियों और बैंक अकाउंट्स सीज कर दिए है।

बता दें कि केडी सिंह की कंपनी अल्केमिस्ट इन्फ्रा रियलटी लिमिटेड पर ईडी ने सितंबर 2016 में केस दर्ज किया था। ये मामला PMLA के तहत दर्ज किया गया था केडी सिंह की कंपनी पर आरोप था कि इस कंपनी ने लोगों को करीब 1900 करोड़ रुपये का चूना लगाया था। सेबी की ओर से कंपनी, इसके डायरेक्टर और शेयर होल्डर्स पर मामला दर्ज किया गया था।

खबर के मुताबिक इससे पहले भी तृणमूल कांग्रेस के कई नेताओं का नाम शारदा चिटफंड घोटाले में आया था टीएमसी प्रमुख और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कई बार केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर आरोप लगाती रही है कि सरकार जांच एजेंसियों का दुरुपयोग कर रही है। ममता ने कई बार आरोप लगाया है कि केंद्र सरकार एजेंसियों का दुरुपयोग कर विरोधियों को धमका रही है।

इससे पहले 11 नवंबर 2018 को कर्नाटक के पूर्व मंत्री और खनन उद्योगपति जी जनार्दन रेड्डी को पोंजी घोटाला मामले में गिरफ्तार किया था पुलिस ने पोंजी घोटाला मामले में रेड्डी से गहन पूछताछ की थी अतिरिक्त पुलिस आयुक्त (अपराध) आलोक कुमार ने इसकी जानकारी दी थी

कुमार ने बताया था कि रेड्डी 10 नवंबर को केंद्रीय अपराध शाखा (CCB) के कार्यालय पहुंचे थे। रविवार की सुबह पूछताछ समाप्त होने के बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया उन्होंने बताया कि सीसीबी ने इस मामले में रेड्डी के विश्वस्त सहायोगी अली खान को भी गिरफ्तार किया है।

यदि आप पत्रकारिता जगत से जुड़ना चाहते है तो, जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट