अमर भारती : उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टीॉ और बहुजन समाज पार्टी के महागठबंधन का आज आधिकारिक ऐलान हो गया है। बसपा सुप्रीम मायावती व समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव 12 जनवरी यानी शनिवार को इसकी औपचारिक घोषणा करेंगे।
सूत्रों के मुताबिक यूपी में गठबंधन का फार्मूला तय हो चुका है। पीएम मोदी की संसदीय क्षेत्र वाराणसी पर गठबंधन संयुक्त प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारेगा। सूत्रों के हवाले से खबर है कि सपा और बसपा 37-37 सीटों पर अपने प्रत्याशी खड़े करेंगे। वहीं 2 सीटों पर राष्ट्रीय लोकदल का प्रत्याशी चुनाव लड़ेगा।

सूत्रों के मुताबिक, बसपा 38, सपा 37, आरएलडी 3 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। सपा अपने कोटे से निषाद पार्टी और पीस पार्टी को एक-एक सीट देगी। निषाद पार्टी गोरखपुर की सीट से चुनाव लड़ेगी और पीस पार्टी को खलीलाबाद लोकसभा सीट दिया जाएगा। इसके अलावा महागठबंधन की ओर से दो सीटों रायबरेली और अमेठी पर प्रत्याशी नहीं उतारा जाएगा। अगर ओम प्रकाश राजभर एनडीए छोड़कर आते हैं तो सपा उन्हें भी अपने कोटे से दो सीट देगी।

25 साल बाद यूपी में इतिहास दोहराया जा रहा है। सन 1993 में यही गठबंधन मुलायम सिंह और कांशी राम के बीच हुआ था। अब दोनों के सियासी वारिस कर रहे हैं. लेकिन कांग्रेस इस गठबंधन में नजर नहीं आती। अजित सिंह का राष्ट्रीय लोकदल इस गठबंधन का हिस्सा होगा. लेकिन सीटों पर अभी बातचीत चल रही है।

मायावती के घर जाएंगे अखिलेश

लखनऊ में महागठबंधन के प्रेस कॉन्फ्रेंस से पहले बसपा सुप्रीमो मायावती के घर के बाहर और समाजवादी पार्टी के कार्यालय के बाहर कार्यकर्ताओं का जमावड़ा लगना शुरू हो गया है। कार्यकर्ताओं का कहना है कि दोनों नेताओं के मिलन से नए युग की शुरुआत हो रही है। सबकी सहमति और सबके सहयोग से हमें बीजेपी को उखाड़ फेंकेगे. ग्राउंड जीरो पर मौजूद हमारे संवाददाता आशुतोष मिश्रा के मुताबिक, दोपहर करीब 11.30 बजे खुद अखिलेश यादव, मायावती के घर उन्हें रिसीव करने जाएंगे। इसके बाद दोनों नेता होटल ताज पहुंचेंगे।