अमर भारती : आज के समय में गर्दन में दर्द होने का केस आम हो गया है। आज के युवाओ को भी इस परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। बता दें कि देर समय तक झुक कर  बैठने से इस तरह की बीमारी शुरु हो जाती है।

बता दें कि कंप्यूटर पर कार्य की वजह से सिर ,गर्दन व पीठ के दर्द से का सामना करना पडता है। आपके बैठने की स्थिति दर्द से बचाने में सहायक हो सकती है।

कंप्यूटर और मोबाईल पर को बहुत करीब से सिर झुकाकर देखने से गर्दन पर दबाव पड़ता है, इससे थकान, सिर में दर्द, एकाग्रता में कमी, मांसपेशीय तनाव में वृद्धि व ज्यादा समय तक कार्य करने से मेरुदंड में घाव हो सकता है। इसके अलावा लेटे हुए मोबाईल चलाने से और तकिए को ऊपर कर सोने से भी ऐसा होता है।

शोधकर्ताओं का कहना है कि इससे सिर मोड़ने की क्षमता में कमी आ सकती है। सैन फ्रांसिस्को स्टेट यूनिवर्सिटी के सहायक प्रोफेसर इरिक पेपर ने कहा, “जब आपके बैठने की स्थिति सीधी होती है, तो आपकी पीछे की मांसपेशियां आपके सिर व गर्दन के भार को सहारा देती हैं।” जिससें लगातार ऐसी ही स्थिति मेैं रहने से ये परेशानी पनपती है।

पेपर ने कहा, “जब आप सिर को 45 डिग्री के कोण पर आगे करते हैं तो आपकी गर्दन एक आधार की तरह कार्य करती है, यह एक लंबे लीवर के भारी वस्तु उठाने जैसा है। अब आपके सिर व गर्दन का वजन करीब 45 पाउंड के बराबर हो जाता है। इसलिए कंधे व पीठ में दर्द व गर्दन में अकड़न हो तो चकित होने की बात नहीं है।”