अमर भारती : वर्ल्ड बैंक ने मंगलवार को एक रिपोर्ट जारी की, जिसमें अनुमान लगाया है कि भारत 2018-19 में दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था वाला देश बना रहेगा। रिपोर्ट में कहा गया है कि मौजूदा वित्त वर्ष (2018-19) के दौरान भारत का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) 7.3% की दर से बढ़ेगा। दूसरी ओर, भारत की तुलना में चीन का विकास दर 6.3% रहने की उम्मीद है, जो 2018 में 6.5 रही थी।

विश्व बैंक प्रॉस्पेक्ट्स ग्रुप के डायरेक्टर अहान कोसे ने एक इंटरव्यू में कहा, ‘निवेश में तेजी आने और खपत के कारण, हमें उम्मीद है कि वित्त वर्ष 2018-2019 में भारत की जीडीपी 7.3 प्रतिशत रहेगी, जबकि 2019 और 2020 में वृद्धि के साथ 7.5 प्रतिशत हो जाएगी। भारत ने व्यापार रैंकिंग में काफी तेजी दर्ज की। जिससे आने वाले सालों में भारत मजबूती मिलेगी।’ यह मोदी सरकार के लिए खुश खबरी के रूप में भी है, क्योंकि इस वर्ष लोकसभा के चुनाव भी होने हैं।

अर्थव्यवस्था में फिर दिखी तेजी

वर्ल्ड बैंक के अनुसार, भारत की जीडीपी 2018-19 में 7.3 प्रतिशत की दर से बढ़ेगी। यह अगले दो वित्तीय वर्षों में 7.5 प्रतिशत तक पहुंच जाएगा। जीडीपी में यह बढ़त बढ़ी हुई खपत और निवेश का परिणाम है। नोटबंदी और जीएसटी के कारण अस्थायी मंदी के बाद अर्थव्यवस्था में फिर से तेजी आ रही है।

वर्ल्ड बैंक की रिपोर्ट में कहा गया है कि 2017 में भारत की अर्थव्यवस्था में जीएसटी और नोटबंदी के कारण गिरावट गिरावट आई थी। 2017 में चीन का विकास दर 6.9 प्रतिशत रहा, जबकि भारत की जीडीपी वृद्धि 6.7 प्रतिशत थी। वर्ल्ड बैंक प्रॉस्पेक्ट्स के ग्रुप डायरेक्टर अहान कोसे ने कहा कि भारत का ग्रोथ आउटलुक अभी भी मजबूत है। भारत अब भी सबसे तेजी से बढ़ती बड़ी अर्थव्यवस्था है।

रिपोर्ट के अनुसार, ‘जीएसटी और नोटबंदी के कारण 2017 में भारत की अर्थव्यवस्था में गिरावट गिरावट आई थी। 2017 में चीन का विकास दर 6.9 प्रतिशत रहा, जबकि भारत की जीडीपी वृद्धि 6.7 प्रतिशत थी। लेकिन एक बार फिर नोटबंदी और जीएसटी के कारण अस्थाई मंदी के बाद अर्थव्यवस्था में फिर से तेजी आ रही है। भारत मजबूत है।’

यदि आप पत्रकारिता जगत से जुड़ना चाहते है तो, जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here