अमर भारती : मध्यप्रदेश में सरकार बदलते ही पुलिस के तेवर भी बदल गए हैं। यहां छतरपुर जिले के बाजना थाने में एक किसान को चोरी के शक में लॉकअप में बंद करके बेरहमी से पीटा गया। जब पीड़ित किसान अपना दर्द बताने मीडिया के सामने आया तो पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया और अधिकारियों के हाथ-पैर फूलने लगे।

बताया जा रहा है कि बाजना में 15 दिन पहले राजकिशोर उपाध्याय के घर चोरी हुई थी और चोरी के शक में पुलिस ने बालकिशन यादव को पूछताछ के लिए थाने बुलाया और लॉकअप में बंद करके लाठियां भाजनी शुरू कर दी।

पीड़ित किसान बालकिशन यादव ने आरोप लगाया कि पुलिस ने उस पर जबरन चोरी का आरोप अपने ऊपर लेने का दबाव बनाया। मगर जब उसने चोरी का आरोप अपने सिर नहीं लिया और पुलिस की लाठियां बर्दाश्त करता रहा। तो पुलिस ने अंत में बालकिशन पर धारा 151 के तहत मामला दर्ज करते हुए जमानत पर छोड़ दिया।

इस घटना के सामने आने के बाद आला अधिकारियों ने दो आरक्षकों अंकित उपाध्याय और शुभम मिश्रा को लाइन अटैच करते हुए महिला थाना प्रभारी ऋतु उपाध्याय को थाने से हटा दिया गया।

साथ ही किसान के साथ हुई मारपीट के मामले की जांच करने का आदेश अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक को सौंपी गई है।

यदि आप पत्रकारिता जगत से जुड़ना चाहते है तो, जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here