अमर भारती : आज का दिन राष्ट्रीय जनता दल (राजद) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के लिए बेहद अहम हैं। इसकी वजह रांची हाईकोर्ट में उनकी जमानत याचिका पर हो रही सुनवाई है। लालू की तरफ से कोर्ट में बढ़ती उम्र और सेहत को वजह बताते जमानत देने की अर्जी दायर की गई है। खबरों के मुताबिक कोर्ट में लालू की तरफ से कांग्रेस के नेता और वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल पैरवी करेंगे।

लालू यादव इन 11 बिमारियों से परेशान हैं

लालू की तरफ से बेहतर इलाज कराने के लिए कोर्ट से जमानत देने की बात कही गई है। पिछली बार 21 दिसंबर को सीबीआई के निवेदन पर कोर्ट ने जमानत याचिका पर सुनवाई टालकर 4 जनवरी की तारीख तय की थी। लालू यादव फिलहाल रांची के रिम्स में अपना इलाज करा रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक राजद सुप्रीमों डायबीटिज, क्रॉनिक किडनी और हार्ट समेत करीब 11 गंभीर बीमारियों का इलाज करा रहे हैं। 

उनके समर्थक न्यायिक प्रक्रिया में विशवास जताते हुए लालू यादव की जमानत मिलने की उम्मीद जता रहे हैं वहीं विरोधी जमानत मांगने की मंशा पर सवाल उठा रहें हैं। लोजपा संसदीय दल के नेता चिराग पासवान कहते हैं कि लालू तो रांची से ही महागठबंधन चला रहे हैं, वह अंदर रहें या बाहर, क्या फर्क पड़ता है?

कहां खाएंगे लालू चूड़ा-दही

सबकी निगाहें कोर्ट के आदेश पर टिकी है। कोर्ट का फैसला तय करेगा कि लालू मकर संक्रांति के दिन चूड़ा-दही पटना स्थित आवास पर खाएंगे या जेल (अस्पताल) में। जहां एक तरफ पटना में लालू आवास पर पार्टी के कई बड़े नेता राबड़ी देवी व तेजस्वी यादव से मिल रहे हैं वहीं दूसरी तरफ लालू की जमानत से पहले समर्थकों की धड़कने भी बढ़ी हुई है।

इन मामले में मिली है लालू यादव को सजा 

गौरतलब है कि देवघर कोषागार मामला (आरसी 64 ए/96) में लालू को छह जनवरी 2018 को साढ़े तीन साल की सजा सुनाई गई। चाईबासा कोषागार मामला (आरसी 68 ए/96) में कोर्ट ने लालू को 24 जनवरी 2018 को पांच साल की सजा दी। दुमका कोषागार मामला (आरसी 38 ए/96) में 24 मार्च 2018 को लालू को सात-सात साल की सजा सुनाई गई थी।

यदि आप पत्रकारिता जगत से जुड़ना चाहते है तो, जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट