अमर भारती : भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 4 मैचों की टेस्ट सीरीज का दूसरा मुकाबला पर्थ में खेला जा रहा है। जिसमें ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला लिया और अपनी पहली पारी सलामी बल्लेबाजों की बदौलत 326 रनों का स्कोर खड़ा किया।

जिसके बाद अपनी पहली पारी खेलने उतरी भारत को उम्मीद थी कि उनके सलामी बल्लेबाज भी अच्छी शुरूआत देंगे, लेकिन भारतीय ओपनरों ने फिर निराश किया और 8 रन के स्कोर पर विजय और राहुल दोनों पवेलियन लौट गए।

लंच से पहले सिर्फ 3 ओवरों का ही मैच हो सका, जिसमें पारी के तीसरे ही ओवर में मिशेल स्टार्क ने अपनी एक खूबसूरत इनस्विंग गेंद पर मुरली विजय के स्टंप उड़ा दिए। मुरली विजय शून्य पर आउट हुए। लंच के बाद जोश हेजलवुड ने भारत को दूसरा झटका दिया। के एल राहुल हेजलवुड की शानदार गेंद पर चकमा खा गए और बोल्ड हो गए।

के एल राहुल की पिछली 12 टेस्ट पारियों की बात करें तो यह 10वां मौका है जब राहुल एलबीडब्ल्यू या बोल्ड आउट हुए हैं। राहुल सिर्फ 2 रन ही बना पाए। पिछली कई पारियों में केएल राहुल की एक बड़ी खामी सामने आई है जिसका विरोधी टीम ने जमकर फायदा उठाया है।

इससे पहले भी इंग्लैंड, विंडीज और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हुई सीरीज में राहुल को अंदर आती हुई गेंदों पर परेशानी का सामना करते देखा गया था।

राहुल की बल्लेबाजी में तकनीकी खामी दिखाई दे रही है जिसके कारण अंदर आती हुई गेंद उनके बल्ले का इंसाइड ऐज लेकर विकेट पर चली जाती है या वो एलबीडब्ल्यू आउट हो जाते हैं।

अगर राहुल के टेस्ट कैरियर की बात की जाए तो उन्होंने अपने टेस्ट कैरियर का आगाज भी ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 2014 में ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड से किया था। जिसमें वह दो पारियों में मात्र 4 रन (1 रन, 3 रन) ही बना सकें। राहुल ने अब तक 33 टेस्ट मैच की 54 पारियों में बल्लेबाजी करते हुए 36.46 की औसत से 1,896 रन बनाए हैं, जिसमें 5 शतक और 11 अर्धशतक शामिल हैं।

आप पत्रकारिता क्षेत्र में रूचि रखते है तो जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से