अमर भारती : कनाडा ने चीन की कंपनी हुवेई टेक्नोलॉजीज की मुख्य वित्तीय अधिकारी (सीएफओ) को गिरफ्तार कर लिया गया है। जी हां, चीनी कंपनी हुवेई पर अमेरिका ने ये आरोप लगाया है कि उसने अमेरिकी के प्रतिबंध का उल्लंघन किया है। इसी के साथ बुधवार को कनाडा की कोर्ट ने बताया कि सीएफओ मेंग वानझाउ के अमेरिका प्रत्यर्पण करने की तैयारी की जा रही है।

कनाडा विधि विभाग के प्रवक्ता इयान मैकलोएड ने बताया कि मेंग वानझोउ को ब्रिटिश कोलंबिया के वैंकूवर से शनिवार को गिरफ्तार किया गया था उन्होंने कहा कि अमेरिका प्रत्यर्पण की मांग कर रहा है। हालांकि कोर्ट के अधिकारी मैकलोएड ने बताया कि इस मामले में सूचनाओं के प्रसारण पर प्रतिबंध के चलते विस्तृत जानकारी नहीं दी जा सकती है।

गौरतलब है की वॉल स्ट्रीट जर्नल ने वर्ष की शुरुआत में खबर दी थी कि अमेरिका चीनी कंपनी हुवाई द्वारा ईरान के खिलाफ लगे प्रतिबंधों के उल्लंघन की जांच कर रहा है। रॉयटर सूत्रों के मुताबिक चीन की कंपनी पर अमेरिकी प्रतिबंध के उल्लंघन का आरोप है. अमेरिका का दावा है कि कंपनी ने अमेरिका के लिए निर्मित हुवेई फोन की खेप को ईरान समेत कुछ अन्य देशों में भेजने का काम किया है।

मेंग कंपनी बोर्ड की डिप्टी चेयरपर्सन भी हैं और कंपनी के संस्थापक रेन झेंगफेई की बेटी हैं। हुवेई ने कंपनी के मालिक की बेटी की गिरफ्तारी की पुश्टि कर दी है हालांकि दावा किया है कि उसे गिरफ्तारी के कारण नहीं बताए गए हैं। कंपनी ने दावा किया है कि मेंग वानझाउ ने ऐसा कोई गलत काम नहीं किया है कि उनकी गिरफ्तारी की नौबत आए।

कनाडा स्थित चीन के दूतावास ने कहा कि उसने मिंग की गिरफ्तारी का विरोध किया था और अब कनाडा सरकार से मिंग की तुरंत रिहाई की मांग की है. मिंग की गिरफ्तारी उस वक्त हुई जब वह कनाडा से चीन के लिए फ्लाइट बदल रहीं थीं।

गौरतलब है कि इस गिरफ्तारी के बाद अमेरिका और चीन के रिश्तों में नया तनाव पैदा हो सकता है और इससे हाल में अर्जेंटीना में हुए समझौते को धक्का भी लगने की संभावना है. गौरतलब है कि इस महीने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने जी20 सम्मेलन के दौरान समझौता किया था कि दोनों देश अगले 90 दिनों के अंदर अपने ट्रेड विवाद को सुलझाने का काम करेंगे।

गौरतलब है कि बुधवार को मिंग की गिरफ्तारी की खबर उसी दिन आई जह इंग्लैंड की टेलिकॉम दिग्गज बीटी समूह ने अपने 3जी और 4जी नेटवर्क पर हुवेई के मोबाइल फोन को प्रतिबंधित किया।

यदि आप पत्रकारिता क्षेत्र में रूचि रखते है तो जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से:- 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here