अमर भारती : सरदार भगतसिंह का नाम अमर शहीदों में सबसे प्रमुख रूप में लिया जाता है| भारत के सबसे महान स्वतंत्रता संग्राम शहीद भगत सिंह भारत देश की महान ताकत है जिन्होंने हमें अपने देश पर मर मिटने की ताकत दी है और ये बताया देश प्रेम क्या है।

भगत सिंह जी ने बचपन से ही अंग्रेजों के अत्याचार देखे थे, और उसी अत्याचार को देखते हुए उन्होने हम भारतीय लोगों के लिए इतना कर दिया की आज उनका नाम सुनहरे पन्नो में है, लेकिन हाल ही मे भगत सिंह को ‘आतंकी’ बताने वाले जम्मू यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर मोहम्मद ताजुद्दीन को सस्पेंड कर दिया है।

रिपोर्ट्स के अनुसार जब एम ताजुद्दीन जब क्लास में लेक्चर दे रहे थे, तो उस वक्त उन्होंने कहा कि क्रांतिकारी
सेनानी भगत सिंह ‘हीरो’ नहीं बल्कि एक ‘आतंकी’ है। इसके बाद वहां मौजूद छात्रों ने इस बात पर आपत्ति जताई
प्रोफेसर पर राष्ट्रवादी भावनाओं को चोट पहुंचाने का आरोप लगाते हुए उनके खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। शिकायत दर्ज होने बाद इस घटना की जांच के आदेश दे दिए गए।

खबर है कि भगत सिंह पर विवादित टिप्पणी करने के बाद प्रोफेसर ताजुद्दीन ने अपने बयान पर मांगी और कहा कि “मैं खुद सिंह को एक क्रांतिकारी मानता हुँ। वह उन लोगों में से हैं जिन्होंने देश के लिए अपने प्राणों की आहुति दी.” उन्होंने सफाई हुए कहा, ‘मेरे दिए गए लेक्चर को गलत तरीके से पेश किया गया है। मेरे बोले गए शब्दों की गलत व्याख्या की गई है।

उन्होंने बताया, मेरा इरादा भगत सिंह को आतंकवादी कहना कतई नहीं था। मैं उनका सम्मान करता हूँ। मेरा इरादा भगत सिंह आतंकवादी कहना कतई नहीं था। मैं उनका सम्मान करता हूँ। अगर मैंने किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाया है तो माफीमांगता हूं।  ताजुद्दीन ने कहा मैंने 2 घंटे का लेक्चर दिया, जिसमें किसी ने 25 सेकंड का वीडियो लिया और सोशल मीडिया पर शेयर कर दिया।

आपको बता दें, जम्मू यूनिवर्सिटी के वाइंस चांसलर मनोज के धर के पास कुछ छात्र गुरुवार को आए थे। जहां उन्होंने इस की जानकारी दी। सबूत के तौर पर वह अपने साथ सीडी भी लेकर आए ,जिसके बाद यूनिवर्सिटी प्रशासन ने तुरंत जांच कमेटी का गठन किया गया है। साथ ही कहागया है कि जब तक जांच कमेटी कोई अंतिम निर्णय नहीं लेती है, वह छात्रों को नहीं पढ़ा सकते।

यदि आप पत्रकारिता क्षेत्र में रूचि रखते है तो जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से:-