अमर भारती : विश्व के ताकतवर देश अमेरिका व चीन के बीच हो रहे कारोबारी जंग के बीच अर्जेंटीना में हो रहे है जी -20 सम्मेलन के दौरान विश्व के कई ताकतवर नेता तेल की कीमतों पर स्थिरता लाने के लिए विचार करेंगे इस बड़े वैठक में विकास के लाभ को आम लोगों तक पहुंचाने, पर्यावरण संरक्षण, विश्व व्यापार सुगम बनाने व अक्षय ऊर्जा जैसे विषयों पर चर्चा होनी है।

सम्मेलन से पूर्व ‘पुटिंग पीपुल्स फर्स्ट’ की पहली अध्यक्षता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे।  प्रधानमंत्री मोदी अपने पहले अध्यक्षता के दैरान योग के विकास व विकास के लाभ को गरीबों तक पहुचानें वाली तमाम सभी योजनाओं से दुनिया को अवगत कराएंगे साथ ही साथ वह डिजिटल क्रांति के लाभ से भी दुनिया को अवगत कराएंगे।

विदेश सचिव का कहना है कि प्रधानमंत्री जी-20 सम्मेलन के लिए मंगलवार को रवाना होंगे और 2 दिसंबर को स्वदेश वापस लौटेंगे। विदेश सचिव ने प्रधानमंत्री के अमेरिकी राष्ट्रपति समेत कई राष्ट्राध्यक्षों से द्विपक्षीय वार्ता की पुष्टि की है।

जी-20 सम्मेलन का एक सत्रीय भाग तेल व व्यापार के विषयों पर आधारित है। दुनिया के कई बड़े देश तेल कीमतों में अस्थिरता और उपलब्धता न होने से काफी परेशान है। विदेश सचिव गोखेल के अनुसार पीएम मोदी अपने भाषण में जन धन,मुद्रा, स्टार्ट अप जैसी योजनाओं के बेहतर इस्तेमाल की बात विश्व के सामने रखेंगे।

मोदी- शी जिनपिंग के मुलाकात पर होगी सबकी नज़र

सममेलन के मध्य प्रधानमंत्री मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच होने वाले  द्विपक्षीय बातचीत पर दुनिया की नज़र रहेगी। इन बीते बर्षों में दोनों की यह तीसरी मुलाकात है। मालदीव में सत्ता परिवर्तन व विश्व के कई देशों में कारोबारी मतभेदों के बाद सीमा पर तनाव कम हुआ है।

यदि आप पत्रकारिता क्षेत्र में रूचि रखते है तो जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से:- 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here