अमर भारती : आज भारत-पाकिस्तान बॉर्डर पर बन रहे करतारपुर साहिब कॉरिडोर की आधारशिला रखी जानी है। ये कॉरिडोर ऐलान के साथ ही इस पर सियासी संग्राम शुरु हो गया है। ऐलान के बाद नेताओं में लेने की होड़ मची और अब नींव रखी जाने के दौरान भी राजनीतिक बयानबाजी शुरु हो गई है।

पंजाब सरकार में मंत्री एसएस रंधावा ने एक गजब का कारनामा करते हुए नींव पत्थर पर लिखे अपने नाम और मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के नाम पर काली टेप लगा दी। ऐसा करने का कारण पूछे जाने पर मंत्री रंधावा ने बताया कि नींव पत्थर पर प्रकाश सिंह बादल और सुखबीर बादल के नाम के विरोध में उन्होंने ऐसा किया। उन्होंने सवाल उठाया कि नींव पत्थर पर उनके नाम क्यों हैं? वे इसका हिस्सा नहीं हैं और न ही ये अकाली और बीजेपी का इवेंट है।

पता नहीं कहा बनाना है कॉरिडोर

पंजाब के मंत्रियों का कहना है कि कॉरिडोर बनाने का फैसला आनन-फानन में लिया गया है, केंद्र सरकार को अभी ये भी नहीं पता है कि कॉरिडोर कहां बनाना है। पंजाब सरकार के कैबिनेट मंत्री तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा और सुखजिंदर रंधावा ने कहा कि पाकिस्तान ने 28 नवंबर को आधारशिला रखने का कार्यक्रम तय कर दिया है।

उन्होंने कहा कि इसी वजह से आनन-फानन में केंद्र सरकार ने 26 नवंबर को ही पंजाब सरकार को आधारशिला का कार्यक्रम आयोजित करने का निर्देश दे दिया। जबकि नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया जिसे इस कॉरिडोर को बनाना है, उसे अब तक ये ही नहीं पता कि ये कॉरिडोर कहां से निकाला जाएगा और इस कॉरिडोर की आधारशिला कहां रखी जाएगी।

हरसिमरत कौर पर निशाना

पंजाब के मंत्री सुखविंदर सिंह रंधावा ने हरसिमरत कौर पर तंज कसते हुए सवाल किया, नवजोत सिंह सिद्धू को ‘कौम का गद्दार’ बताने वाली हरसिमरत कौर बादल क्‍या मुंह लेकर वहां जा रही हैं?

रंधावा ने हरसिमरत को याद दिलाया कि जब नवजोत सिंह सिद्धू पाकिस्तान गए थे तो उन्होंने उन्हें कौम का गद्दार बताया था और अब खुद वह पाकिस्तान जा रही हैं। कहा कि अकाली दल जब सत्‍ता में थी तब उसने कभी भी करतारपुर कॉरीडोर का मुद्दा नहीं उठाया।’

यदि आप भी मीडिया क्षेत्र से जुड़ना चाहते है तो, जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से:-