अमर भारती : भारत की दिग्गज मुक्केबाज एमसी मेरीकॉम ने शनिवार को इतिहास रच दिया। मैरी ने विश्व चैंपियनशिप के फाइनल (48 किग्रा) में यूक्रेन की हाना ओखोता को हराकर खिताब अपने नाम किया। उन्होंने वर्ल्ड रेकॉर्ड छठी बार महिला विश्व कप का खिताब जीतने का गौरव हासिल किया।

35 वर्षीय मैरी छह गोल्ड मेडल जीतने वाली दुनिया की पहली मुक्केबाज बन गईं। पहले राउंड में मैरी कॉम ने मुक्कों की बरसात कर दी। दूसरे राउंड में विदेशी मुक्केबाज भारी नजर आईं। तीसरे और आखिरी राउंड में दोनों ही खिलाड़ी बराबर नजर आए, लेकिन मैरी ने अपने जबरदस्त मुक्कों के दम से आखिरकार 5-0 के अंतर से खिताबी मुकाबला अपने नाम कर ही लिया।

इस जीत के साथ ही 35 वर्षीय स्टार भारतीय बॉक्सर आयरलैंड की कैटी टेलर को पछाड़कर सबसे अधिक 6 वर्ल्ड चैंपियनशिप्स में जीतने वाली पहली महिला बॉक्सर बन गईं। इससे पहले मेरी और टेलर 5-5 बार वर्ल्ड चैंपियनशिप का खिताब जीतकर बराबरी पर थीं।

महिला विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप में मेरीकॉम का यह 7वां (6 गोल्ड+ एक सिल्वर) पदक है। सर्वाधिक मेडल जीतने का रिकॉर्ड भी अब मेरीकॉम के नाम है। केटी टेलर (5 गोल्ड+ 1 ब्रॉन्ज) अब पिछड़ चुकी हैं।

इस तरह यह मणिपुरी मुक्केबाज अब तक छह स्वर्ण और एक रजत पदक अपने नाम कर चुकीं हैं। मैरी पोलैंड में हाल ही में हाना को पराजित भी कर चुकी थी। मैरी ने 2001 में हुई पहली महिला बॉक्सिंग चैंपियनशिप में रजत जीता था। इसके बाद 2002, 2005, 2006, 2008, 2010 में स्वर्ण जीते। मैरी ने आयरलैंड की दिग्गज कैटी को (पांच स्वर्ण) पछाड़ा।

विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप में मेरीकॉम के पदक

गोल्ड मेडल : 2002 एंटाल्या (टर्की) 45 kg

गोल्ड मेडल : 2005 पोडॉल्स्क (रूस) 46 kg

गोल्ड मेडल : 2006 नई दिल्ली 46 kg

गोल्ड मेडल :  2008 निंगबो सिटी (चीन) 46 kg

गोल्ड मेडल : 2010 ब्रिजटाउन (बारबाडोस) 48 kg

गोल्ड मेडल : 2018 नई दिल्ली 48 kg

यदि आप भी मीडिया क्षेत्र से जुड़ना चाहते है तो, जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से:-

Comments are closed.