अमर भारती : अमृतसर में निरंकारी भवन में हुए आतंकी हमले में एक आरोपी को गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार युवक पंजाब का स्थानीय निवासी ही है। वहीं दूसरा आरोपी अभी फरार है। पुलिस को कुछ अहम जानकारी हाथ लगी है। गिरफ्तार स्थानीय निवासी ने ही पाकिस्तान में बैठे आतंकियों की मदद से इस हमले को अंजाम दिया था।

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पूरे मामले में चंडीगढ़ में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे हैं। सीएम अमरिंदर सिंह ने कहा कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी इसमें सक्रिय थी। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि पूछताछ के दौरान पकड़े गए शख्स से अहम जानकारियां मिली थी। वहीं पुलिस ने बताया कि आरोपी हमले के बाद मुख्य मार्ग को छोड़कर गांवों की तरफ निकले। इसे उन्हें आसान समझा। हालांकि इससे यह संकेत मिल गए कि आरोपी इलाके को अच्छे से जानते हैं। सीमावर्ती गंवों में भी छानबीन शुरु की गई।

उन्होंने कहा कि मुझे यह घोषणा करने में प्रसन्नता हो रही है कि हमले में शामिल दो में से एक को पुलिस ने पकड़ लिया है। 26 साल के बिक्रमजीत सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया है। दूसरे को भी जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। उसका नाम अवतार सिंह है।

यह ग्रेनेड का प्रकार है, जिसे अन्य मॉड्यूल से लिया गया है। यह कश्मीर में बलों के खिलाफ इस्तेमाल किया जा रहा है और यह वह है जो फट गया। यह पाकिस्तान लाइसेंस प्राप्त कारखाने द्वारा बनाया गया है और छर्रों से भरा है।

इसमें तीन लोगों की जान चली गई थी। वहीं 20 घायल हुए। हमला बाइक पर सवार युवकों ने किया था। पंजाब सरकार ने तुरंत 5 लाख मुआवजे का ऐलान किया था। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने हमले में मारे गए लोगों को पांच लाख रुपये का मुआवजा देने का एलान किया। घायलों का मुफ्त इलाज किए जाने की बात भी कही थी।

यदि आप भी मीडिया क्षेत्र से जुड़ना चाहते है तो, जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से:-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here