अमर भारती : महाराष्ट्र के वर्धा में सेना के हथियार डिपो में जबरदस्त धमाके की खबर है जिसमें तीन मजदूरों सहित 6 लोगों की मौत हो गई। एक अधिकारी ने बताया कि आयुध को वाहनों से उतारने के दौरान सुबह करीब सात बजे यह विस्फोट हुआ। उन्होंने बताया कि मरने वालों में एक व्यक्ति आयुध फैक्टरी का कर्मचारी है जबकि अन्य तीन मजदूर हैं।

धमाके वाली जगह पर लोगों की भारी भीड़ इकट्ठा हो गई है। हथियार डिपो में धमाका होने के कारण जानमाल की भारी क्षति की आशंका है, इसलिए आसपास के इलाकों में दहशत का माहौल बन गया है। पूरे इलाके को चारों ओर से घेर लिया गया है। किसी को अंदर जाने की इजाजत नहीं है। सूत्रों ने बताया कि आसपास के गांवों को खाली करा लिया गया है और घायलों को अस्पताल पुहंचाने के लिए सेना के हेलीकॉप्टर का सहारा लिया जा रहा है।

जानकारी के मुताबिक वर्धा फायरिंग रेंज में यह घटना हुई. जबलपुर खमरिया हथियार डिपो के स्टाफ बेकार विस्फोटकों को नष्ट करने के लिए बम डिस्पोजल रेंज में बुलाए गए थे। उनके काम के दौरान सुबह 8 बजे धमाका हो गया। अब तक 6 लोगों की मौत के अलावा आसपास के कई गांवों में अफरा-तफरी का माहौल है।

नागपुर से करीब 115 किलोमीटर दूरी पर स्थित यह एशिया का सबसे बड़ा आयुध डिपो है। देश में हथियारों और गोला-बारूद का सर्वाधिक भंडारण यहीं पर होता है। करीब 7 हजार एकड़ में फैला हुआ है। फैक्ट्रियों में बनाए जाने वाले हर तरह के हथियार और गोला-बारूद पहले यहां आते हैं, उसके बाद दूसरे डिपो में सप्लाई होते हैं।

यहां कई शेडों में विभिन्न प्रकार के बम, शेल्स, मिसाइल, एसार्टेड (कंधों पर रख कर इस्तेमाल की जाने वाली) रायफल व अन्य विस्फोटक सामग्री रखी गई है। पिछली बार हुए धमाकों की तीव्रता इतनी थी कि पुलगांव शहर समेत परिसर से लगे देहातों के लोगों को लगा भूकंप आया है। लोग भारी दहशत के चलते अपने-अपने घरों की छत पर चढ़ गए थे।

यदि आप भी मीडिया क्षेत्र से जुड़ना चाहते है तो, जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से:-

Comments are closed.