अमर भारती : सीबीआई के विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को दो बार सुनवाई हुई। सुबह सबसे पहले कोर्ट लगते ही इस केस की सुनवाई शुरू हुई और चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा के वकील फली नरीमन को कुछ दस्तावेज देते हुए पूछा कि जो रिपोर्ट सीलबंद लिफाफे में कोर्ट को सौंपी गई, वो पहले ही सार्वजनिक कैसे हो गई।

चीफ जस्टिस ने कोर्ट में मौजूद पक्षों को यहां तक कह दिया कि आज सुनवाई के लिए आपमें से कोई भी डिजर्व नहीं करता है।

चीफ जस्टिस ने पूछा, रिपोर्ट कैसे लीक हुई

मंगलवार को सुनवाई शुरू होते ही चीफ जस्टिस रंजन गोगोई आलोक वर्मा के वकील फली नरीमन से मुखातिब हुए। चीफ जस्टिस की बेंच ने फली नरीमन को मीडिया रिपोर्ट थमाते हुए पूछा कि आलोक वर्मा द्वारा सीलबंद लिफाफे में सौंपी गई रिपोर्ट मीडिया में कैसे लीक हुई। इसपर वर्मा के वकील नरीमन ने कहा कि उन्हें भी नहीं मालूम रिपोर्ट कैसे लीक हुई। नरीमन ने इसे दुर्भाग्यपूर्ण बताया।

सुप्रीम कोर्ट में सीबीआई निदेशक आलोक कुमार वर्मा ने भ्रष्टाचार के आरोपों से संबंधित सीवीसी की जांच रिपोर्ट पर अपना जवाब दाखिल कर दिया है।  बता दें कि वर्मा ने सील बंद लिफाफे में सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में अपना जवाब दाखिल कर दिया है। इससे पहले सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा ने सुप्रीम कोर्ट से कुछ और वक्त की मांग की थी, लेकिन कोर्ट ने सख्ती बरतते हुए वर्मा को सोमवार को ही जवाब देने को कहा था।

इस मामले पर 16 नवंबर को सुनवाई हुई थी। तब सीवीसी ने उनके मामले की जांच रिपोर्ट को एक सीलबंद लिफाफे में न्यायालय को सौंपा था। इस रिपोर्ट की एक कॉपी न्यायालय ने वर्मा को दी थी ताकि वह इसपर अपना पक्ष रख सके। इसके अलावा सीवीसी की रिपोर्ट अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल और सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता को भी सौंपी गई थी।

न्यायालय ने सीवीसी रिपोर्ट की प्रति मुहैया कराने संबंधी सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के अनुरोध ठुकरा दिया था। न्यायालय ने कहा था कि सीबीआई में लोगों के भरोसे की रक्षा करने और संस्थान की पवित्रता बनाए रखने के लिए सीवीसी रिपोर्ट की गोपनीयता बनाए रखना जरूरी है। इस मामले की सुनवाई मुख्य न्यायधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता में तीन जजों की बेंच कर रही है।

इससे पहले सोमवार को सीवीसी की रिपोर्ट पर आलोक वर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में अपना जवाब दाखिल किया। केंद्रीय सतर्कता आयोग इस पूरे केस की जांच कर रहा है, जिसने अपने रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को सौंप दी है। इस रिपोर्ट पर ही सोमवार को आलोक वर्मा से जवाब मांगा गया था। वर्मा पर भी भ्रष्टाचार के आरोप हैं। आज इस मसले पर एक बार कोर्ट में सुनवाई का दिन है, जहां मुख्य तौर पर सीवीसी की जांच रिपोर्ट और उस पर आलोक वर्मा के जवाब को देखा जाएगा।

यदि आप भी मीडिया क्षेत्र से जुड़ना चाहते है तो, जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से:-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here