अमर भारती : हरिद्वार में आयोजित ज्ञान कुंभ में बाबा रामदेव ने एक विवादित बयान दे दिया। स्वामी रामदेव ने कहा है कि इस देश में जो हमारी तरह विवाह न करें, उनका विशेष सम्मान होना चाहिए। इसके साथ ही जो विवाह करें और 2 से ज्यादा बच्चे पैदा करें उनको वोटिंग राइट भी नहीं मिलना चाहिए।

जो फिर भी 10 बच्चे पैदा करे, वह उनमें से एक बच्चा हमें भी दे दे। रामदेव ने कहा कि जब आबादी सवा सौ करोड़ हो चुकी है, भले ही वोट के जरिए हम राजनीतिक नेतृत्व चुनते हैं। लेकिन एक विवेकशील पुरुष या महिला हो, कोई जागृत आत्मा हो तो वो हजारों, लाखों, करोड़ों पर भारी पड़ती है। बाबा रामदेव के इस बयान के बाद तमाम राजनीतिक पार्टियों और लोगों में भी चर्चा शुरू हो गई है।

स्वामी रामदेव खुद अविवाहित हैं और विवाह को लेकर वो इससे पहले भी बयान दे चुके हैं। बीते दिनों उन्होंने था कि उनकी सफलता और खुशहाली की वजह उनका अविवाहित होना है। उन्होंने कहा कि खुश रहने के लिए पत्नी और बच्चों की जरूरत नहीं होती, आप उनके बगैर भी खुश रह सकते हैं, जिस तरीके से मैं हमेशा खुश रहता हूं।

पतंजलि योगपीठ में देश का पहला दो दिवसीय ज्ञानकुंभ का आयोजन हो रहा है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने इसका शनिवार को उद्घाटन किया था। इस आयोजन में करीब दो हजार से ज्यादा शिक्षाविद् समेत करीब पांच हजार लोग भाग ले रहे हैं।

वहीं ज्ञानकुंभ में करीब दस राज्यों के शिक्षा मंत्री, शिक्षा सचिव, कई विश्वविद्यालयों के कुलपति, कुलसचिव के साथ ही पांच सौ से ज्यादा महाविद्यालयों के प्राचार्य, करीब तीन सौ शोधार्थी और सैकड़ों की संख्या में टॉपर छात्र-छात्राएं ज्ञानकुंभ में शामिल हो रहे हैं।

यदि आप भी मीडिया क्षेत्र से जुड़ना चाहते है तो, जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से:-

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here