अमर भारती : अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत के गणतंत्र दिवस समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल होने का निमंत्रण ठुकरा दिया है। ट्रंप के इनकार पर सफाई देते हुए व्हाइट हाउस ने कहा है कि वह काफी व्यस्त हैं और जनवरी में भारत दौरे के लिए वक्त नहीं निकाल पा रहे हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मेादी ने पिछले साल वॉशिंगटन में वार्ता के दौरान ट्रंप को भारत आने का न्योता दिया था। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने जुलाई में कहा था कि ट्रंप को भारत आने का निमंत्रण मिला है लेकिन अभी कोई निर्णय नहीं लिया गया है।
मोदी के निमंत्रण पर ट्रंप के फैसले के बारे में पूछे जाने पर व्हाइट हाउस की प्रवक्ता ने कहा, ‘‘राष्ट्रपति ट्रंप 26 जनवरी 2019 को भारत के गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि के तौर पर बुलाए जाने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निमंत्रण को पाकर सम्मानित महसूस करते हैं लेकिन वह पूर्व निर्धारित कार्यक्रमों के कारण इसमें भाग लेने में असमर्थ हैं।’’
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपनी व्यस्तताओं की वजह से अगले साल भारत की गणतंत्र दिवस परेड के मुख्य अतिथि के रूप में भाग नहीं ले पाएंगे। व्हाइट हाउस ने इसकी आधिकारिक घोषणा कर दी है।
आपको बता दें कि भारत अपने हर गणतंत्र दिवस की वर्षगांठ पर मुख्य अतिथि के तौर पर विश्व के कई नेताओं आमंत्रित करता है इस साल भी भारत ने अमरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को आमंत्रित किया।
परन्तु समय कि कमी के चले ट्रंप इस समारोह में शामिल लही हो सकेंगे, लेकिन बता दें कि ट्रंप से पहले 2015 में पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा भारत के गणतंत्र दिवस में शामिल हो चुके है।
2014 में जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे और 2016 में फ्रांस के तत्कालीन राष्ट्रपति फ्रांसुआ ओलांद गणतंत्र दिवस परेड में मुख्य अतिथि रहे। निकोलस सरकोजी (फ्रांस), व्लादिमीर पुतिन, नेलसन मंडेला, जॉन (पूर्व ब्रिटिश प्रधानमंत्री) और मोहम्मद खातमी (ईरान) भी समारोह में बतौर मुख्य अतिथि शामिल हो चुके हैं।