अमर भारती: विश्व के सबसे लंबे समुद्री पुल जो चीन के शहर जुहाई को हांगकांग और मकाऊ से जोड़ने वाला विश्व का सबसे लंबा समुद्री पुल है उसे 24 अक्टूबर यानी कल सड़क यातायात के लिए खोल दिया जाएगा। 55 किलोमीटर लंबा यह पुल पर्ल रिवर एस्चुरी के लिंगदिंग्यांग जल क्षेत्र में स्थित है। 20 अरब डॉलर (लगभग 1.5 लाख करोड़ रुपये) की इस परियोजना पर 2009 में काम शुरू हुआ था।

पुल की खास बातें

पुल पर्ल नदी के मुहाने पर स्थित अन्य शहरों को भी जोड़ने वाले इह पुल की  कुल लंबाई 55 किलोमीटर है। समुद्र के ऊपर 35 किलोमीटर लंबे पुल का निर्माण किया गया है। इस पुल पर लोग 100 किलोमीटर प्रति घंटा रफ्तार से वाहनों को चला सकेंगे। जबकि अभी  3 घंटे का समय अब हांगकांग से जुहाई की यात्रा में लगता है,लेकिन पुल शुरू होने के बाद इस सफर में  30 मिनट का समय लगेगा।

इस पुल का निर्माण कार्य पूरा होने में 9 साल का समय लगा। वहीं 6 लेन वाले पुल का निर्माण तीन साल की देरी से हुआ। पुल के निर्माण में करीब चार लाख टन इस्पात का इस्तेमाल हुआ है। पानी के नीचे बनी 6.7 किलोमीटर लंबी सुरंग का भी निर्माण किया गया है। इस पूरी परियोजना पर करीब 10.7 अरब डॉलर का खर्च आया है। इस पुल को बनाते समय कई दुर्घटनाएं भी हुई। पुल निर्माण शुरू होने के बाद से सात श्रमिकों की मौत हो चुकी है। जबकि 129 लोग घायल हो चुके हैं। उनमें से ज्यादातर दुर्घटनाएं उच्च ऊंचाई से गिरने से हुई।

पुल से जुड़े कुछ नियम

हांगकांग में निजी कार मालिक विशेष परमिट के बिना पुल को पार नहीं कर पाएंगे। इसके लिए उन्हें कार को हांगकांग बंदरगाह पर पार्क करना होगा। फिर शटल बस सेवा या विशेष कारों की मदद लेनी होगी। एक ट्रिप के लिए शटल बसें 8 से 10 डॉलर वसूल करेंगी। इस पुल पर पैदल यात्री नहीं चल सकेंगे।

अगर आप मीडिया जगत से जुड़ना चाहते हैं तो जुड़े हमारे मीडिया इस्टीट्यूट से

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here