अमर भारती : बिहार के सुपौल में छेड़खानी का विरोध करने पर कुछ मनचलों द्वारा लड़कियों की बुरी तरह पिटाई करने का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था कि नजदीकी सहरसा जिले से लड़कियों के साथ छेड़छाड़ का एक और मामला सामने आया है। दबंगों के खौफ का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि गांव की तकरीबन 3 दर्जन छात्राओं ने स्कूल जाना ही छोड़ दिया है।

यह मामला सहरसा के सिमरी बख्तियारपुर थाने के तहत एकपढ़हा गांव का है जहां पर बीते 4 अक्टूबर को स्कूल जा रही छात्राओं के साथ बगल के गांव के मनचलों ने रास्ते में छेड़छाड़ की। इससे तंग आकर लड़कियों ने स्कूल जाना ही छोड़ दिया है। जब एक छात्रा के भाई ने मौके पर छेड़छाड़ का विरोध किया तो मनचलों ने उसकी जमकर पिटाई भी की और उसका हाथ तोड़ दिया।

दरअसल, एकपढ़हा गांव में एक भी हाई स्कूल नहीं है जिसकी वजह से गांव की बेटियों को 7 किलोमीटर दूर सिमरी बख्तियारपुर जाना पड़ता है। हर रोज की तरह सुबह 9:30 बजे गीता (बदला हुआ नाम) अपनी दो अन्य सहेलियों के साथ साइकिल पर बैठकर सिमरी बख्तियारपुर जा रही थी जब रास्ते में हर दिन की तरह छिपकर बैठे मनचलों ने उसके साथ छेड़छाड़ की।

सहरसा पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार ने बताया कि इस पूरे मामले में मोहम्मद कासिम समेत उसके तीन बेटों को आरोपी बनाया गया है। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि इस मामले में कार्रवाई की जा रही है और आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए कोशिश भी तेज कर दी गई है।

यदि आप पत्रकारिता क्षेत्र में रूचि रखते है तो जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से:- 

 

Comments are closed.