अमर भारती : पेट्रोल डीजल के बढ़ते दाम के चलते पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश और केंद्र शासित चंडीगढ़ ने पेट्रोलियम उत्पादों पर अब एक सामान टैक्स लगेगा। इस मामले को लेकर पांच राज्यों के वित्त मंत्रियों और केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ के अधिकारियों ने इस मामले को लेकर एक बैठक में चर्चा की है।

इस बैठक में हरियाणा के वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु, पंजाब के वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल और दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिशोदिया के अलावा उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश और चंडीगढ़ के वित्त विभाग एवं कराधान विभाग के अधिकारी भी मौजूद हैं।

इस बैठक में यह भी चर्चा हुई है कि इन राज्यों में आबकारी नीति, ट्रांसपोर्ट परमिट और गाड़ियों के पंजीकरण से जुड़े करों में भी एकरूपता लाई जाए। अधिकारियों की एक कमेटी भी बनाई गई है, जो आगामी दो हफ्ते में अपनी रिपोर्ट देगी।

हरियाणा के वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने बताया कि उत्तर भारत के पांच राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ में तेल पर लगने वाले वैट में एकरूपता लाने के उद्देश्य से इस मंथन बैठक का आयोजन किया गया था।

इस बैठक के दौरान ये भी सामने आया है कि एक समान दरों से व्यापार में हेरा-फेरी भी कम होगी। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया ने बैठक के बाद कहा, “इससे सरकार का राजस्व बढ़ेगा।

आपको बता दें वर्तमान में दिल्ली, उत्तर प्रदेश और हरियाणा में पेट्रोल पर करीब 27 फीसद और डीजल पर 17 फीसद की दर से वैट लगाया जाता है। अगर दोनों पर रेट 3-4 फीसद तक घटे तो कीमतें 2 रुपये तक कम हो जाएंगी।

दिल्ली में पेट्रोल के दाम 82.86 रुपये और डीजल के दाम 74.12 रुपये प्रति लीटर है। दिल्ली में पेट्रोल के दामों में 14 पैसे और डीजल में 10 पैसे की बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है, देश की आर्थिक राजधानी मुंबई सहित महाराष्ट्र के कई शहरों में पेट्रोल 90 रुपये प्रति लीटर के पार पहुंच गया है।

अगर आप पत्रकारिता जगत से जुड़ना चाहते हैं तो हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से संपर्क करें

यह भी देखें-

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here