अमर भारती : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को झारखंड की राजधानी रांची में स्वास्थ्य सुरक्षा देने वाली महत्वाकांक्षी आयुष्मान भारत योजना का शुभारंभ करेंगे जिससे देश के कुल 10.74 करोड़ परिवारों को इसका लाभ मिलेगा।

केंद्र सरकार का कहना है कि इस योजना के तहत अब देश के किसी भी सरकारी या प्राइवेट अस्पताल में कैशलेस इलाज कराया जा सकेगा और इससे करीब 50 करोड़ लोगों को फायदा पहुंचेगा।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि सिर्फ देश ही नहीं दुनिया भी भारत की इस योजना की सराहना करती है। नड्डा ने बताया कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में सबसे बड़ी पत्रिका कही जाने वाली लैंसेट ने कहा है कि आयुष्मान भारत अभियान स्वास्थ्य के क्षेत्र में एक बड़ा काम होगा।

इस योजना में किसी भी तरह के पंजीकरण की जरूरत नहीं है और यह पूरी तरह से आईटी पर आधारित कार्यक्रम होगा। इसमें लाभार्थियों को एक गोल्ड कार्ड भी मिलेगा जिससे वे किसी भी अस्पताल में मुफ्त में इलाज करा सकेंगे। इसके लिए प्रधानमंत्री मोदी का उद्देश्य है कि देश के अंतिम व्यक्ति तक इसका लाभ मिले। इस महत्वाकांक्षी योजना का मकसद प्रत्येक परिवार को सालाना पांच लाख रुपये का बीमा कवर प्रदान करना है।

इस योजना का नाम बदलकर प्रधानमंत्री जन आरोग्य अभियान कर दिया गया है। इस योजना के अंतरगत गरीब, वंचित ग्रामीण परिवार और शहरी श्रमिकों की पेशेवर श्रेणियां आएगी। इस योजना के लिए एसईसीसी के डाटाबेस के मुताबिक अलग-अलग कैटेगरी में बांटा जाएगा। ग्रामीण क्षेत्रों में वंचना की श्रेणियों (डी1,डी2,डी3,डी4,डी5, डी6 और डी7) के आधार पर लाभार्थियों की पहचान की गई है और शहरी क्षेत्रों में 11 पेशवेर मापदंड पात्रता तय की जाएगी।

प्रधानमंत्री के साथ केंद्रीय मंत्री भी अपने चुनाव क्षेत्र में इस योजना की शुरुआत करेंगे। योगी आदित्यनाथ गोरखपुर, नीतीश कुमार पटना, पीयूष गोयल गुरुग्राम और नीतिन गडकरी नागपुर में इस योजना को हरी झंडी दिखाएंगे। माना जा रहा है कि इस योजना के तहत न केवल रांची और नागपुर बल्कि पुरे देश में लोगों को इस योजना का फायदा मिलेगा।

अगर आप पत्रकारिता जगत का हिस्सा बनना चाहते हैं तो हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट में संपर्क करें

यह भी देखें-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here