अमर भारती : भारतीय नौसेना के जवान और इंडियन गोल्डन ग्लोब रेस के भारतीय प्रतिनिधि कमांडर अभिलाष टोमी का संपर्क दक्षिणी हिंद महासागर में टूट गया है। 39 साल के कमांडर अभिलाष को ढूंढ़ने के लिए ऑस्ट्रेलिया का सैन्य दल प्रयास कर रहा है। गोल्डन ग्लोब रेस नौका दौड़ प्रतियोगिता होती है और इसमें दुनिया भर के मशहूर नाविक हिस्सा लेते हैं। इस साल यह प्रतियोगिता 1 जुलाई को फ्रांस से शुरू हुई थी।

अभिलाष टॉमी गोल्डन ग्लोब रेस में हिस्सा ले रहे थे. इस रेस में याट के माध्यम से 48280 किमी की विश्व यात्रा अकेले ही की जाती है।इसमें वही नौकाएं इस्तेमाल की जाती हैं जो 50 साल पहले इस रेस में इस्तेमाल हुई थीं।इसमें कोई भी नई तकनीक इस्तेमाल करने की अनुमति नहीं होती, सिवाय संचार के उपकरणों के।

गोल्डन ग्लोब रेस में स्वदेश निर्मित याट ‘एस वी थुरिया’ पर भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे कमांडर टॉमी को शुक्रवार को कमर में चोट लग गई थी जब 14 मीटर ऊंची लहरों वाले खतरनाक तूफान में उनके याट का एक हिस्सा टूट गया था।

दूसरे प्रतिभागी ‘एस वी हानले एनर्जी एंडुरेंस’ भी एस वी थुरिया की तरफ बढ़ रहे हैं. हालांकि इस पोत को खुद भी बहुत नुकसान पहुंचा है. मछली पकड़ने में इस्तेमाल होने वाला ऑस्ट्रेलियाई पोत ‘ओशिरिस’ भी उस स्थान की तरफ बढ़ रहा है जहां टॉमी फंसे हुए हैं. इसमें बताया गया कि ओशिरिस में एक चिकित्सा अधिकारी सवार हैं और उसमें एक बिस्तर वाला अस्पताल भी मौजूद है.

बता दें कि कमांडर अभिलाष इससे पहले भी एक बार बिना रुके दुनिया का चक्कर लगा चुके हैं। उन्हें इस रेस में हिस्सा लेने के लिए विशेष सदस्य के तौर पर आमंत्रित किया गया है। कमांडर अभिलाष भारतीय नौसेना में फ्लाइंग ऑफिसर के पद पर तैनात हैं। उनकी साहसिक जलयात्रा की तारीफ पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी भी कर चुके हैं।

यदि आप मीडिया के क्षेत्र से जुड़ना चाहते है तो जुड़िए हमारे मीडिया इंसटीट्यूट से:-

यह भी देखें:-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here