अमर भारती :  मराठा क्रांति मोर्चा ने गुरुवार 9 अगस्त को माराठा आरक्षण की मांग को लेकर महाराष्ट्र बंद की पुकार की है। आज आरक्षण को दो साल पूरे हो गए है। मराठा क्रांति मोर्चा ने यह भी कहा है कि आरक्षण शांति से होना चाहिए। नवी मुंबई और थाने को बंद नहीं किया जाएगा।

आपको बता दें कि महाराष्ट्र में पहले भी मराठा संगठनों द्वारा जुलाई में मराठा बंद करने का आयोजन किया गया था। जिसमे सबसे ज्यादा नुकसान पुणे में हुआ था। यह आंदोलन कई दिनों तक चला था। इसलिए इस बार पुणे में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। पुणे में 2200 पुलिसकर्मी, 900 होमगार्ड, एसआरपीएफ की 3 टुकड़ी, आरएएफ की 1 टुकड़ी और 20 दंगारोधी दस्ते तैनात किए गए हैं। बांद्रा में जिलाधिकारी कार्यालय के सामने सुरक्षा का इंतज़ाम किया गया है। शहर के चौराहों पर पुलिस तैनात की गई है।

भले ही आंदेलन से महाराष्ट्र पर इतना असर नहीं पड़ा, लेकिन शहर की सब्जी मंडियों पर बुरा असर पड़ा है। नवी मुंबई एपीएमसी मार्केट बंद होने की वजह से जिस सब्जी मंडी पर पैर रखने की जगह भी नही होती वहां भी सन्नाटा छाया हुआ है।

मराठा समाज ने यह कहा है कि कोई भी व्यक्ति अपनी मांग रखने के लिए हिंसा का प्रयोग ना करे और शांतिपूर्वक तरीके से इस आंदोलन को करा जाए। हालांकि आज मुंबई के जीटीबी नगर में बच्चे स्कूल जाते दिखे, वहीं सड़कों पर भी लोगों का धीरे-धीरे चलना देखने को मिला।

अगर आप भी पत्रकारिता में दिलचस्पी रखतें है तो जुड़़िए हमारे मीडिया इंस्ट्टीयूट से

यह भी देखें-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here