अमर भारती : एक भारतीय परिवार ने यूरोप की एक जानी-मानी एयरलाइंस पर आरोप लगाया है कि उन्‍हें विमान से इसलिए उतार दिया गया  क्‍योंकि उनका तीन साल का बेटा रो रहा था। साथ ही क्रू मेंबर ने रंग को लेकर बेहद खराब  और अपमानजनक अपशब्दों का प्रयोग भी किया।

भारतीय यात्री का आरोप है कि विमान के टेक ऑफ होने पर मां जब बच्‍चे को चुप कराने की कोशिश कर रही थीतब केबिन क्रू ने उन पर अभद्र टिप्‍पणी करते हुए, उन्‍हें विमान से उतार दिया। जिसकी शिकायत भारतीय परिवार ने उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु से की है। ब्रिटिश एयरवेज से उतारे जाने के बाद यात्री ए.पी. पाठक ने बताया, ‘इस घटना को हम कभी नहीं भुला पाएंगे। हम लंदन से बर्लिन के लिए ब्रिटिश एयरवेज में सफर कर रहे थे, तभी हमारे बेटे ने रोना शुरू कर दिया और फ्लाइट का एक अटेंडेंट आया और हमें डराने लगा कि अगर बेटे को चुप नहीं कराया तो फ्लाइट से नीचे उतार देंगे। उसके कुछ देर बाद उसने सिक्यॉरिटी को बुलाया और हमें विमान से उतार दिया। ऐसे में परिवार के साथ बच्चे की मदद करने की कोशिश कर रहे कुछ अन्य भारतीय परिवारों को भी फ्लाइट से उतार दिया गया।

भारतीयों के साथ ये कथित तौर पर रंगभेद और अपमानजनक घटना एक ब्रिटिश एयरवेज की लंदन-बर्लिन फ्लाइट (बीए 8495) में हुई। घटना 23 जुलाई की हैजो 1984 बैच के एक भारतीय इंजीनियरिंग सर्विस के अधिकारी के साथ हुई। वहीं, घटना पर ब्रिटिश एयरवेज के प्रवक्ता ने कहा,  ‘हम ऐसी घटनाओं को गंभीरता से लेते हैं। किसी भी व्यक्ति के साथ इस तरह का बर्ताव बर्दाश्‍त नहीं किया जा सकता। हम अपने कस्टमर से लगातार संपर्क में हैं और हमने इस घटना की जांच शुरू कर दी गई है। पत्र में अधिकारी ने लिखा है कि क्रू मेंबर ने मेरे बेटे को खिड़की से फेंकने की धमकी भी दी। इसके बाद उसी क्रू मेंबर ने हमारे रंग को लेकर बेहद खराब  और अपमानजनक अपशब्दों का प्रयोग किया।

अगर आप भी पत्रकारिता में रुचि रखते हैं तो हमारे मीडिया इंस्ट्टीयूट में आए

यह भी देखें-