अमर भारती : महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में रहते है तो समुद्री तटों के पानी में संभल कर रहें। इन दिनों में मुंबई के कई तटों में ब्लू बोटल जेलीफिश ने आतंक मचाया हुआ है। ब्लू बोटल जेलीफिश को ‘पुर्तगाली योद्धा’ नाम से भी जाना जाता हैं। पिछले दो दिन में बड़ी संख्या में आई इन जहरीली जेलिफिशों के हमले से कई लोग घायल हो चुके हैं और दर्द से कराह रहे हैं। अब तक 150 लोग घायल हो चुके हैं।

जब यह जेलिफिश किसी इंसान के संपर्क में आती है तो इसके डंक से निकलने वाले जहर से घंटो तक दर्द और खुजली होती है लेकिन इन्सान की मौत नहीं होती। यदि यह दूसरी मछलियों पर हमला कर दे तो उनकी मौत हो सकती है। आमतौर पर ब्लू बोटल जेलीफिश मध्य मानसून सीजन के दौरान मुंबई में देखी जाती हैं

शहर के जुहू, अक्सा और गिरगांव चौपाटी के बीचों पर इनकी तादाद बहुत ज्यादा बढ़ गई है, जिसको देखते हुए सरकार ने एडवाइजरी जारी कर लोगों को बीच पर जाने से मना किया है। पिछले दो दिन में 150 से ज्यादा लोगों ने इनके डंक मारने की शिकायत की हैं। राहत के लिए जुहू बीच के दुकानदार उनके प्रभावित अंग पर नीबू रगड़ते हैं जिससे उनका दर्द कम हो जाता हैं। विशेषज्ञों के अनुसार ये जेलीफिश जिस बॉडी पार्ट के टच में आती हैं वह सुन्न हो जाता है। कई केस में इनके टच की वजह से बहरापन की भी शिकायत मिली है। स्थानीय लोगों का कहना है कि जेलिफिश हर साल बीच पर देखी जाती हैं लेकिन, इस समय ये काफी संख्या में मौजूद हैं।

हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट  में आए और पत्रकारिता जगत से जुड़ जाए

यह भी देखें-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here