अमर भारती : महाराष्ट्र के सांगली में एक आठ महीने की गर्भवती महिला के साथ आठ लोगों के बलात्कार की खबर सामने आने के बाद महाराष्ट्र महिला आयोग ने इसे गंभीरता से लेते हुए पुलिस से रिपोर्ट मांगी है। यह घटना मंगलवार की सुबह छह बजे हुई जब 20 वर्षीय महिला अपने पति के साथ तासगांव के तुर्चि फाटा में एक करोबारी से मीटिंग के लिए आई थी।

तासगांव पुलिस स्टेशन के एक अधिकारी ने बताया कि महिला और उनके पति, कपल होटल व्यवसाय से जुड़े एक जोड़े को काम के लिए ढूंढ रहे थे। मामले में आरोपी मुकुंद माने ने महिला के पति को फोन कर कहा कि वह एक ऐसे कपल को जानता है जो उनके लिए काम करने को राजी है और उसने इन दोनों को तुर्चि फाटा बुलाया। माने ने उन्हें 20,000 रुपये एडवांस लाने के लिए भी कहा।

जब होटल कारोबारी और उनकी पत्नी बताए हुए स्थान पर पहुंचे तब माने और उसके आदमियों ने उन्हें बुरी तरह पाइप और छड़ी से पीटा और महिला के सोने के गहनों के अलावा उनके पास मौजूद नकदी को भी लूट लिया। उसके बाद उन लोगों ने उस महिला के पति को बांधकर गाड़ी के अंदर लॉक कर दिया और उन लोगों ने महिला के साथ गैंगरेप किया जबकि महिला इस बात की गुहार लगाती रही कि उनकी हालत देखकर वे सभी उन्हें छोड़ दें।

उसके बाद हमलावरों ने उन जोड़े को पुलिस को ना बताने की धमकी देते हुए कहा कि वे सभी काफी ताकतवर हैं और उनकी कोई नहीं सुनेगा। बाद में पीड़ित पति-पत्नी ने तासगांव थाने में जाकर चार व्यक्ति मने, सागर, जावेद खान और विनोद के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई। वारदात के करीब 48 घंटे के बाद भी पुलिस किसी को गिरफ्तार नहीं कर पाई। हालांकि, पुलिस का कहना है कि आरोपियों की सरगर्मी के साथ तलाश की जा रही है।

इस मामले में हस्तक्षेप करते हुए महाराष्ट्र राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष विजया राहतकर ने सांगली के पुलिस अधीक्षक को पत्र लिखकर व्यक्तिगत रूप से मामले की जांच करने और विस्तृत रिपोर्ट जमा करने के लिए कहा है

अगर आप भी पत्रकारिता जगत में अपना नाम कमाना चाहते हैं तो हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट में संपर्क करें

यह भी देखें-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here