अमर भारती : मराठा समाज के 16% आरक्षण की मांग पिछले कई दिनों से चल रही है। इस आरक्षण की मांग को लेकर इससे पूर्व महाराष्ट्र बंद का भी ऐलान हुआ था। आपको बता दें मराठा समाज की मांग पिछड़े वर्ग के तहत सरकारी नौकरी में आरक्षण की मांग को लेकर की जा रही है। सरकार की अपील के बाद भी मराठा समाज आंदोलनकारियों में आक्रोश भरा है और इसी के चलते उन्होंने दोपहर 1 बजे से जेल भरो आंदोलन शुरू करने का ऐलान भी कर दिया है। आंदोलनकारियों का कहना है की पुलिस ने जानबुझकर बेगुनाह लोगों को हिंसा करने के आरोप में गिरफ्तार किया है और अगर पुलिस ने जेल में कैद लोगों को रिहा नहीं किया या केस वापस नहीं लिया तो वह जेल भरो आंदोलन करेंगे।

आंदोलनकारियों के बढ़ते गुस्से को देखते हुए कई मराठा समाज के विधायकों ने लोगों से शांति बनाने की अपील की है और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने शनिवार को सर्वदलीय बैठक के बाद ये घोषणा की थी कि जिन लोगों पर हिंसा के गंभीर मामले दर्ज है उन्हें छोड़कर शांतिपूर्ण तरीके से आंदोलन करने वाले लोगों को रिहा किया जाएगा और केस भी वापस लिए जाएंगे।

खबर है की इस जेल भरो आंदोलन को पूरे राज्य में 9 अगस्त तक पूरा किया जाएगा और इसके बाद एक बड़े आंदोलन की भी तैयारी की जा रही है। उनका कहना यह भी है की इस बार किसी आश्वासन से काम नहीं चलेगा। सरकार को कोई ठोस कदम उठाना होगा वरना यह आक्रोश रूकने वाला नहीं है।अबतक मराठा समाज के आंदोलनकारियों ने कई गाड़ियां जलाकर राख कर दी हैं और कई जगह तोड़फोड़ मचा दी है।
अब सवाल सरकार पर उठता है की आखिर सरकार क्या करेगी इस गुस्से की आग को शांत करने के लिए और देखना है की मराठा समाज की मांगे पूरी होती हैं या फिर आक्रोश के और परिणाम सामने आएंगे।

यदि आप भी पत्रकारिता जगत में रूची रखते हैं तो हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से जुड़िये-

यह भी देखें-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here